Breaking NewsTechTop NewsTravelदेशनई दिल्लीपश्चिम बंगाल चुनावराजनीतिवायरलसोशल मीडिया

सुभाष चंद्र बोस के 125वें जन्मदिन पर ऐतिहासिक फैसला, कालका मेल ट्रेन का नाम बदलकर किया ‘नेताजी एक्सप्रेस’

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं सालगिरह को पूरा देश धूमधाम से मना रहा है। मोदी सरकार इस दिन को ‘पराक्रम दिवस’ के तौर पर मनाए जाने का कुछ दिन पहले ही ऐलान कर चुकी है। अब केंद्र सरकार ने एक और ऐतिहासिक फैसला करते हुए कहा कि ‘कालका मेल ट्रेन’ का नाम बदल कर ‘नेताजी एक्सप्रेस’ किया जाएगा।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर कहा, ‘हम स्वाधीनता संग्राम में सुभाष चंद्र बोस के अविस्मरणीय योगदान को सलाम करते हैं। उनकी जयंती को अब पराक्रम दिवस के तौर पर मनाया जाएगा। भारतीय रेलवे ने भी हावड़ा-कालका मेल को नेताजी एक्सप्रेस नाम देने का निर्णय किया है।’ रेलमंत्री ने घोषणा करते हुए 23 जनवरी से ट्रेन का आधिकारिक तौर पर नाम बदल दिया है। वर्ष 1941 में नेताजी ने अंग्रेजों की कैद से निकलने के लिए इस ट्रेन का इस्तेमाल किया था। अब 130 साल पुरानी इस ट्रेन का नाम बोस के नाम पर कर दिया गया है।

कालका मेल को नंबर ‘1 Up/2 Dn’ के तौर पर जाना जाता है, जो उसके आजादी से पहले की रेल कनेक्टिविटी से जुड़ा है। ‘ईस्ट इंडियन रेलवे मेल’ के तौर पर एक जनवरी 1866 को कालका मेल पहली बार चली थी। उस वक्त इस ट्रेन का नाम 63 अप हावड़ा पेशावर एक्सप्रेस था। 18 जनवरी 1941 को फिरंगियों को चकमा देकर नेताजी सुभाष चंद्र बोस इसी ट्रेन पर धनबाद जिले के गोमो जंक्शन से सवार होकर निकले थे। नेताजी की यादों से जुड़ी होने के कारण ही रेलवे ने कालका मेल का नामकरण नेताजी एक्सप्रेस के रूप में किया है।

बता दें कि तत्कालीन रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव ने 23 जनवरी 2009 को धनबाद जिले के गोमो जंक्शन का नामकरण नेताजी सुभाष चंद्र बोस जंक्शन गोमो किया था। हावड़ा कालका मेल अभी स्पेशल ट्रेन बनकर चल रही है। इस ट्रेन के नियमित बनकर चलने के साथ ही इसके नाम में बदलाव प्रभावी होगा। अभी 02311 अप और 02312 डाउन बनकर चल रही ट्रेन अपने पुराने नंबर 12311 अप और 12312 डाउन नेताजी एक्सप्रेस बनकर चलेगी।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close