Breaking NewsBusinessTop Newsउत्तर प्रदेशक्राइमदेशराजनीतिवायरलव्यापारसोशल मीडिया

UP में पुलिसकर्मियों ने सर्राफा व्यवसायी से लूटे 30 लाख, आरोपी दरोगा व सिपाही गिरफ्तार, वर्दी हुई दागदार

महराजगंज में दो सर्राफा व्यवसायी से हुई लूट के मामले में SP हेमराज मीणा ने बड़ी कार्रवाई करते हुए गुरुवार को दारोगा समेत दो अन्य पुलिस कर्मियों को बर्खास्त कर दिया है। इसके अलावा लापरवाही करने वाले 9 पुलिसकर्मियों को भी निलंबित कर दिया गया।

बता दें कि निचलौल निवासी सर्राफा कारोबारी के करीबी दीपक और रामू वर्मा बुधवार को गहनों की खरीददारी करने बस से लखनऊ जा रहे थे। इस दौरान गोरखपुर में रेलवे बस स्‍टेशन पर वर्दीधारी दारोगा व दो सिपाहियों ने उन्‍हें पकड़ लिया। तस्‍करी करने का आरोप लगाते हुए पूछताछ करने के बहाने वहां से टेंपों में बैठाकर नौसढ़ ले गए। जहां दोनों की पिटाई करने के बाद गहने व रुपये से भरा बैग छीन लिया। जिसके बाद व्यवसायी की तहरीर पर गोरखपुर के कैंट थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। पीड़ितों ने आरोप लगाया था कि लूट करने वालों ने पुलिस की वर्दी पहन रखी थी।

वर्दी पहने अपराधियों की संलिप्तता को देखते हुए पुलिस अज्ञात बदमाशों के खिलाफ लूट का मुकदमा दर्ज कर जांच में जुट गई। इसके बाद कैंट पुलिस, क्राइम ब्रांच और नौसढ़ चौकी प्रभारी बदमाशों की तलाश में लग गए। सीसीटीवी कैमरे की जांच में मिले फुटेज के आधार पर टीम बस्‍ती पहुंची। वहां सर्विलांस की मदद से पुरानी बस्‍ती थाने पहुंचकर घटना में इस्‍तेमाल बोलेरो, लूटी गई रकम और गहने बरामद किए। साथ ही वारदात को अंजाम देने वाले दारोगा और दो सिपाहियों को पकड़ लिया। वहीं वारदात में शामिल एक अन्‍य सिपाही की तलाश चल रही है।

शुरुआती जांच में आरोपी से पता चला कि उन्‍होंने लूट की कई घटनाओं को अंजाम दिया है। इस लूट के अपराध में शामिल पुलिसकर्मियों के अलावा पूरी वारदात में मुखबिरी करने वाले दो युवकों को भी पकड़ा गया है। वहीं, एसपी ने कार्रवाई करते हुए पुरानी बस्ती थाने पर तैनात SI धर्मेंद्र यादव, कांस्टेबल महेंद्र यादव और कांस्टेबल संतोष यादव को बर्खास्त कर दिया। वहीं लापरवाही के मामले में थानाध्यक्ष अवधेश राज सिंह समेत 9 पुलिसकर्मियों को भी निलंबित किया गया।

उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा अपने ही महकमे के इन चंद दारोगा-सिपाहियों के गैंग का भंडाफोड़ गुरुवार को किया गया। बताया जा रहा है कि गैंग में शामिल लुटेरों का नाम है दारोगा धर्मेंद्र यादव (वर्तमान तैनाती बस्ती), सिपाही संतोष यादव और महेंद्र यादव। गिरफ्तार सब-इंस्पेक्टर धर्मेंद्र यादव मूल रूप से गोरखपुर का, जबकि उसके शिष्ट सिपाही-लुटेरे महेंद्र और संतोष क्रमश: गाजीपुर व मऊ जिले के निवासी हैं।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close