Breaking NewsBusinessTechTop NewsWorldदेशवायरलशिक्षासमय विशेषसोशल मीडिया

7 वर्षीय वेंकट रमन ने पास की माईक्रोसॉफ्ट परीक्षा, अब मिला ‘वंडर किड’ का खिताब

अगर बच्चों को टेक्नोलॉजी की सही से शिक्षा दी जाए तो बच्चे कम उम्र में बड़े कीर्तिमान स्थापित करने लगते हैं। बच्चों को अगर टेक्नोलॉजी के साथ सही शिक्षा नहीं मिल पाती है तो यही बच्चे टेक्नोलॉजी का गलत इस्तेमाल करते हुए अपने जीवन, परिवार, समाज के लिए कई मुसीबतें खड़ी कर सकते हैं। ओडिशा में बलांगीर जिले के वेंकट रमन पटनायक ने माइक्रोसॉफ्ट प्रौद्योगिकी एसोसिएट (MTA) परीक्षा पास कर ली है। कक्षा 3 में पढ़ रहे 7 वर्षीय वेंकट को ‘वंडर किड’ कहा जा रहा है। बता दें कि वेंकट रमन ने इतनी कम उम्र में ही जावा, जावास्क्रिप्ट, पायथन, एचटीएमएल, सीएसएस और डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेशन फंडामेंटल्स में प्रोग्रामिंग का एमटीए क्लियर किया है। गौरतलब है कि टेक्नोलॉजी में अपना करियर बनाने के इच्छुक कैंडिडेट्स के लिए MTA वैश्विक स्तर पर मान्यता प्राप्त एक सर्टिफिकेट कोर्स है।

जानकारी के मुताबिक, वेंकट रमन पटनायक ने मार्च 2019 में व्हाइटहैट जूनियर (WhiteHat Jr.) ज्वाइन की थी और अब तक लगभग 160 क्लास में भाग लिया है। उन्हें पहले ही दिन से कोडिंग में अपनी रुचि दिखाई और फिर उसी में जुट गए।

वेंकट रमन के शिक्षक जितेंद्र कौर ने भी उनकी इस उपलब्धि को दुर्लभ बताते हुए कहा कि इस तरह की कहानियां हमें प्रेरणा देती हैं और इन असाधारण बच्चों की प्रतिभा और आश्चर्यचकित कर देती है। वेंकट रमन पटनायक कक्षा 3 के छात्र हैं, लेकिन उन्होंने जो उपलब्धि हासिल की है, वह अद्वितीय है। वे कहते हैं कि MTA परीक्षा पास करने के लिए और कोडिंग में कौशल विकसित करने में उन्हें 6 महीने का समय लगा। उनके माता-पिता ने बताया कि वेंकट सीखने में हर दिन लगभग 10-12 घंटे बिताते हैं और अंतरिक्ष विज्ञान, रुबिक क्यूब, कैरम, क्रिकेट और साइकिलिंग के भी शौकीन हैं।

✍️ रिपोर्ट : दिनेश दिनकर

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close