Breaking NewsTop Newsउत्तर प्रदेशक्राइमछोटा पर्दादेशनई दिल्लीमनोरंजनमहाराष्ट्रराजनीतिवायरलसिनेमासोशल मीडिया

बदायूं गैंगरेप पर NCW सदस्य ने महिलाओं के अकेले बाहर नहीं निकलने की दी सलाह तो अभिनेत्री पूजा भट्ट ने उठाए सवाल

उत्तर प्रदेश के बदायूं में 50 वर्षीय महिला के साथ हुए गैंग रेप और फिर निर्ममता से की गई पीड़िता की हत्या ने उत्तर प्रदेश के शासन-प्रशासन को एक बार फिर कठघरे में लाकर खड़ा कर दिया है। राज्य सरकार ने STF का गठन कर दिया है और मुख्य आरोपी भी गिरफ्तार हो चुका है, लेकिन कुछ जिम्मेदार लोगों के बेतुके बयान से हर रेप केस की तरह इस केस को एक अलग तरह के तौर पर समाज के सामने रखा जा रहा है।

 

 

गौरतलब है कि महिला आयोग की सदस्य चंद्रमुखी इस केस का जायजा लेने पहुंची थीं तो चंद्रमुखी ने मीडिया से बातचीत के दौरान लड़कियों के घर से बाहर निकलने पर ही टिप्पणी कर दी। चंद्रमुखी देवी ने कहा, “किसी महिला को किसी के प्रभाव में बेसमय बाहर नहीं जाना चाहिए। मुझे लगता है कि अगर वह शाम को बाहर नहीं गई होती, या उसके साथ परिवार का कोई सदस्य होता, तो इसे रोका जा सकता था।” देवी ने यह भी कहा कि वह घटना में पुलिस की भूमिका से संतुष्ट नहीं थीं। उन्होंने अपने दौरे के बाद कहा, “अगर पुलिस ने मामले में तेज़ी दिखाई होती, तो शायद वे पीड़िता को बचा सकते थे।”

 

महिला आयोग की सदस्य चंद्रमुखी द्वारा इस तरह की अमर्यादित टिप्पणी करने को लेकर उनकी चौतरफा आलोचना हो रही है। बॉलीवुड अभिनेत्री और फिल्ममेकर पूजा भट्ट ने भी इस बयान को लेकर महिला आयोग पर निशाना साधा है। उन्होंने महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा पर तीखे सवाल किए हैं। फिल्ममेकर पूजा भट्ट ने जानना चाहा कि अगर महिला आयोग भी ऐसे संवेदनशील मामलों अपनी यही राय रखता है। ट्वीट में लिखा है- रेखा जी क्या आप इस बयान से सहमत हैं। क्या आपको भी यही लगता है कि महिला का गलत समय में मंदिर जाने के लिए बाहर निकलना ठीक नहीं था।

 

इस पूरे घटनाक्रम को लेकर महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने ना सिर्फ अपनी उस सदस्य के बयान का खंडन किया है बल्कि महिलाओं के बाहर निकलने पर भी अपनी राय स्पष्ट करते हुए लिखा- मैं बिल्कुल भी सहमत नहीं हूं इससे। मुझे नहीं पता कि सदस्य ने ऐसा क्यों कहा है। सभी महिलाओं को पूरा हक है कि वे कभी भी और कही भी जा सकती हैं। महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करना समाज का काम है। रेखा शर्मा के इस जवाब से पूजा भी संतुष्ट नजर आईं और उन्होंने उम्मीद जताई कि इस केस में भी जल्द न्याय होगा।

गौरतलब है कि बदायूं के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संकल्प शर्मा ने बुधवार को बताया कि गत रविवार को उघैती थाना क्षेत्र के एक गांव में मंदिर गई 50 वर्षीय एक महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। उन्होंने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में महिला के साथ बलात्कार की पुष्टि हुई है और उसके गुप्तांग में चोट के निशान तथा पैर की हड्डी टूटी पाई गई है। बता दें कि इस मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में थानाध्यक्ष राघवेंद्र प्रताप सिंह को एसएसपी संकल्प शर्मा ने निलंबित कर दिया है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close