Breaking NewsBusinessTechTop NewsWorldक्राइमजम्मू-कश्मीरदेशनई दिल्लीराजनीतिवायरलविदेशव्यापारसोशल मीडिया

चीन के राष्ट्रपति ने अपनी सेना को दिया भड़काऊ भाषण, कहा- युद्ध के लिए रहें तैयार

वैश्विक महामारी कोविड-19 को लेकर सारी दुनिया के निशाने पर चल रहा चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। चीन अक्सर अपनी विस्तारवादी नीति के चलते भी कई देशों को परेशान करता रहता है। वैश्विक महामारी कोरोनावायरस के कारण मंदी पड़ी अर्थव्यवस्था, बढ़ती बेरोजगारी और स्वास्थ्य क्षेत्रों में चल रही व्यस्तता का लगभग पूरी दुनिया सामना कर रही है। किंतु चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अपने सुरक्षाबलों से कहा है कि हर वक्त तैयार रहने के लिए अपनी ट्रेनिंग को बढ़ाएं। शी जिनपिंग ने कहा पीपुल्स लिबरेशन आर्मी किसी भी सेकेंड में एक्शन को तैयार रहें। इसके साथ ही, हमेशा मुकाबले के लिए तैयार रहना चाहिए।

जानकारी के मुताबिक, साल 2021 के सेंट्रल मिलिट्री कमिशन के पहले आदेश पर चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने दस्तखत किए हैं। इसके साथ ही, उन्होंने पूर्णकालिक युद्ध की स्थिति में युद्ध के प्रशिक्षण की मजबूती और जीतने की क्षमता पर जोर दिया। शी जिनपिंग के इस भड़काऊ बयान से वैश्विक स्तर पर हड़कंप मच गया है। गौरतलब है कि अपनी विस्तारवादी नीति के चलते चीन बहुत से देशों के साथ तनावपूर्ण स्थिति में चल रहा है।

जून 2020 में चीन और भारत के बाच गलवान घाटी में भारी हिंसक झड़प हुई थी। वहां पर भारी संख्या में चीनी सैनिक पहले से अज्ञात जगहों पर इकट्ठा थे। इस हिंसा में करीब 20 भारतीय जवान शहीद हुए थे जबकि भारी संख्या में चीनी जवानों को क्षति पहुंची थी। हालांकि, चीन ने अपने जवानों की मौत का आंकड़ा नहीं बताया था।

विदित हो कि 2012 के आखिर में सेंट्रल मिलिट्री कमिशन का चेयरमैन बनने के बाद से ही शी जिनपिंग लगातार पीपुल्स लिबरेशन आर्मी को युद्ध के लिए तैयार होने का आह्वान करते रहे हैं। उन्होंने साल 2015 से ही पीएलए में बड़ा परिवर्तन करते हुए चीनी सेना को आधुनिकीकरण की दिशा में काम शुरू किया था और इसे 2020 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा था।

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने चीनी सेना को ऐसे वक्त पर युद्ध के लिए तैयार रहने का आदेश दिया है जब भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद के चलते तनाव की स्थिति बनी हुई है। मई के महीने से ही भारत-चीन के बीच तनाव बरकरार है। अब तक कई दौर की सैन्य और कूटनीतिक स्तर पर वार्ता हो चुकी है। लेकिन, तनाव को कम करने की दिशा में अब तक कोई खास कामयाबी हाथ नहीं लगी है। चीन ने पूर्वी लद्दाख से लगते एलएसी के नजदीक करीब 60 हजार सैनिक के साथ भारी तादाद हथियारों का जमावड़ा किया है। इसके बाद भारत ने भी इतनी ही तादाद में सैनिकों के साथ अत्याधुनिक लड़ाकू विमानों और हथियरों की तैनाती की है।

बताया जा रहा है कि चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के 23 जुलाई 2021 को 100 साल पूरे हो रहे हैं। इस विशेष मौके पर भव्य कार्यक्रम आयोजित करने की तैयारी है। इस विशेष मौके पर चीनी सेना PLA अपनी ताकत का प्रदर्शन करेगी। शी जिनपिंग ने कहा है कि 100वीं वर्षगांठ ‘उत्कृष्ट प्रदर्शन’ के साथ मनाने के लिए सैन्य ताकत के रूप में पीएलए सीएमसी और सीपीसी के आदेशों को पूरी तरह लागू करें।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close