Breaking NewsBusinessTop Newsउत्तर प्रदेशक्राइमछोटा पर्दादेशनई दिल्लीपंजाबमनोरंजनमहाराष्ट्रराजनीतिवायरलसिनेमासोशल मीडिया

दिलजीत दोसांझ ने ‘भारतीय नागरिक होने का प्रमाण’ शेयर करते हुए ट्रोलर्स को कहा- ‘नफरत मत फैलाओ’

किसान आंदोलन को समर्थन देते हुए सिंगर और एक्टर दिलजीत दोसांझ सोशल मीडिया पर एक्टिव रहे हैं। दिलजीत दोसांझ के जज्बे की कुछ लोग तारीफ कर रहे हैं तो कुछ लोग उनकी नागरिकता को लेकर सवाल उठाने लग गए हैं। रविवार को सिंगर और एक्टर दिलजीत दोसांझ ने अपने ट्विटर अकाउंट पर भारत के नागरिक होने का प्रमाण साझा किया। वित्त मंत्रालय द्वारा जारी “प्लेटिनम प्रमाणपत्र” से पता चलता है कि भारत सरकार ने उन्हें कर का भुगतान करने और वर्ष 2019-2020 के लिए आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए प्रमाणित किया है। प्रमाण पत्र में लिखा है, “हम इस महान राष्ट्र के निर्माण के लिए योगदान की मान्यता में, प्लेटिनम श्रेणी में करदाता की सराहना करते हैं।”

 

दिलजीत ने लिखा, “मैं ऐसा महसूस नहीं कर रहा था लेकिन परिस्थितियां ऐसी हैं कि मुझे अब अपनी भारतीय नागरिकता का प्रमाण देना पड़ रहा है। नफरत मत फैलाओ।”

 

आगे उन्होंने कहा, “किसी को ट्विटर यह साबित करने की जरूरत नहीं है कि वो देशभक्त हैं, इसके लिए काम करने की ज़रूरत है।”

 

दरअसल, अभिनेत्री कंगना राणावत ने कुछ दिन पहले दिलजीत दोसांझ और प्रियंका चोपड़ा पर निशाना साधते हुए कहा था कि ‘प्रसिद्ध और जाने माने कलाकार मासूमों को भड़काते हैं। शाहीन बाग जैसे दंगे और किसान आंदोलन करवाते हैं तो क्या सरकार को उनके खिलाफ कार्रवाई या केस नहीं करना चाहिए? क्या इस तरह की देश विरोधी गतिविधियों में खुलकर हिस्सा लेने वालों के लिए कोई सजा नहीं हैं?’

कंगना राणावत के इस बयान के बाद दिलजीत दोसांझ ने कहा था कि ‘गायब होने की बात तो छोड़ो। लेकिन पहले ये बताओ कि किसने उसे ये अधिकार दिया कि वो फैसला करें कि कौन देशद्रोही है और कौन देशभक्त? ये अधिकार उन्हें कहां से दिया जा रहा है? किसानों को देशद्रोही कहने से पहले कम से कम थोड़ी तो शर्म कर लो।’

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close