Breaking NewsBusinessTop Newsदेशराजस्थानवायरलसमय विशेषसोशल मीडिया

‘गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड होल्डर मुर्तिकार नवरत्न प्रजापति’ ने कोरोनाकाल को दर्शाया एक मूर्ति में

बेशक! हम वर्ष 2021 में प्रवेश कर चुके हैं किन्तु वर्ष 2020 के कोरोनाकाल को ताउम्र नहीं भूल सकते हैं। वर्ष 2020 में वैश्विक महामारी कोरोनावायरस जो चीन के वुहान शहर से होता हुआ पूरी दुनिया में फैला और भारत भी इस वायरस के संक्रमण से खुद को बचा नहीं पाया। वर्ष 2020 में आए इस कोरोना वायरस ने मानव जीवन को पूरी तरह से बदल कर रख दिया है। इससे लोगों के अलग-अलग तरह के दुख दर्द सामने आए हैं। हजारों-लाखों लोग तो मिलों दूर तक पैदल चलकर अनेक परेशानियों से जूझते हुए अपने घर पहुंच सके और बहुत से लोगों के छोटे कारोबार, काम-धंधे सब छूट गए ,भूखे मरने की नौबत तक आ गई। इस कोरोनाकाल में सबसे बड़ी परेशानी यह रही कई परिवारों के सदस्य कोविड-19 से संक्रमित होकर अपनों से दूर चले गए ! इस वर्ष के इन घटनाक्रम को मूर्तिकार नवरत्न प्रजापति ने एक मूर्ति में बड़ी बारीकी से दर्शाने का प्रयास किया है।

गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम कर चुके विख्यात मुर्तिकार नवरत्न प्रजापति ने अपनी इस कलाकृति में एक तलवार की तेज धार पर 2020 के दुखी मानव समुदाय को रखा है। इस मूर्ति में युवा कलाकार ने बीते वर्ष के दुखदायक माहौल के साथ आने वाले वर्ष को एक नई सोच नई उमंग नई ऊर्जा के साथ उदय होता दिखाया है। इसी के साथ नवरत्न प्रजापति ने एक वानर रूपी हनुमान जी को इस मूर्ति में 2021 के अंदर हंसते-खेलते हुए दिखाया है।

गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड होल्डर मुर्तिकार नवरत्न प्रजापति ने ‘समय भारत’ से बात करते हुए बताया कि वह इस कलाकृति को तैयार करते हुए बेहद भावुक हो गए थे। अचानक कोरोनाकाल के टेलीविजन पर चलने वाले वो सारे दृश्य आंखों के सामने चलने लगे थे जिनमें हजारों-लाखों लोग अपने बच्चों-बुजुर्गों के साथ मीलों दूर तक पैदल चल रहे थे। इस महामारी में हमारे अस्पतालों के अंदर तड़पते हुए मरीज़, मानवता का फ़र्ज़ निभाते हुए हमारे कोरोना वारियर्स द्वारा दिन-रात की जा रही ड्यूटी, हमारी सरकारों का सहयोगात्मक प्रयास और समाज के विशेष व्यक्तियों द्वारा जनहित को ध्यान में रखते हुए अपने खजाने से जरूरतमंदों की सहायता करने के लिए आगे आना। मुर्तिकार नवरत्न प्रजापति ने आगे कहा कि उम्मीद करते हैं कि वर्ष 2021 भारत के साथ पूरे विश्व के लिए मंगलमय हो।

मिनिएचर स्कल्पचर आर्टिस्ट नवरत्न प्रजापति पेंसिल की नोक की ग्रेफाइट पर 21.3 सेंटीमीटर लंबी एक चेन बना चुके हैं। इस चेन में 101 कड़ी (छल्ले) बने हुए हैं। युवा मूर्तिकार की यह उपलब्धि ‘गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में दर्ज हो चुकी है। राजस्थान के विख्यात मुर्तिकार नवरत्न प्रजापति दुनिया की सबसे छोटी मोटर बाइक बनाकर भी देश-दुनिया में अपनी खास पहचान बना चुके हैं।

✍️ रिपोर्ट: दिनेश दिनकर

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close