Breaking NewsFoodsTop Newsदेशनई दिल्लीराजनीतिराजस्थानवायरलसोशल मीडिया

NDA से अलग हुई सहयोगी पार्टी RLP, तीन संसदीय समितियों से भी इस्तीफा दे चुके हैं RLP प्रमुख हनुमान बेनीवाल

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसान मोदी सरकार के लिए सिरदर्द बने हुए हैं। इसके अलावा NDA गठबंधन में भी हलचल मची हुई है। कुछ महीने पहले 22 साल से एनडीए गठबंधन की सहयोगी पार्टी रही शिरोमणि अकाली दल एनडीए से अलग हो चुकी है। अकाली दल से कैबिनेट मंत्री रही हरसिमरत कौर ने मोदी कैबिनेट के मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। अब एनडीए गठबंधन की एक और सहयोगी पार्टी रही राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी भी एनडीए से अलग हो गई है। बता दें कि RLP एनडीए छोड़ने वाला एनडीए का सबसे नया सदस्य है।

शनिवार को राजस्थान के अलवर जिले में शाहजहांपुर-खेड़ा सीमा पर प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए राजस्थान के नागौर से लोकसभा सांसद हनुमान बेनीवाल ने कहा, “हम किसी के भी साथ नहीं खड़े होंगे, जो किसानों के खिलाफ हैं।”

 

आरएलपी प्रमुख नागौर सांसद ने कहा, “मैंने किसानों के समर्थन में एनडीए का साथ छोड़ा है क्योंकि केंद्र सरकार ने जो तीन कृषि कानून बनाए हैं, वो किसान विरोधी हैं। लेकिन मेरे एनडीए छोड़ने का अर्थ यह नहीं कि हमारी पार्टी कांग्रेस के साथ गठबंधन करेगी।”

इससे पहले 19 दिसंबर को हनुमान बेनीवाल ने किसान आंदोलन के समर्थन में संसद की तीन समितियों जिनमें संसद की उद्योग संबंधी स्थायी समिति, याचिका समिति तथा पेट्रोलियम व गैस मंत्रालय की परामर्शदात्री समिति से इस्तीफा दे दिया था। इससे पहले बेनीवाल ने कहा था कि नरेंद्र मोदी सरकार के पास 303 सांसद हैं जिस वजह से वह कृषि कानूनों को वापस नहीं ले रही है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close