Breaking NewsBusinessLife StyleTop NewsWorldदेशराजस्थानवायरलव्यापारसमय विशेषसोशल मीडिया

राजस्थान के पवन ने आधे घंटे में बांधी 478.5 मीटर कपड़े से सबसे लंबी पगड़ी, बनाया अनोखा रिकॉर्ड

देश में आन बान शान का प्रतीक मानी जाने वाली पगड़ी ने एक भारतीय के साथ पूरे भारत का विश्व में मान बढ़ाया है। बता दें कि राजस्थान से बीकानेर के 20 वर्षीय पवन व्यास ने राजस्थानी साफा, पाग और पगड़ी को विश्व स्तर पर और ख्याति दिलाने के लिए विश्व की सबसे बड़ी पगड़ी बांधने का दावा पेश किया।

धरणीधर सभागार में पवन ने महज 35 मिनट में 478. 5 मीटर लम्बे साफा के कपड़े से सबसे बड़ी पगड़ी बांधी है। बता दें कि पवन ने इस कार्य के लिए 8.7 मीटर लम्बे 55 साफा के कपड़ों का उपयोग किया।

उन्होंने यह पगड़ी नेशनल मूंछ चैम्पियन 2018 राहुल शंकर थानवी के सिर पर बांधी। पवन व्यास इससे पहले विश्व की सबसे छोटी 1 से 3 सेंटीमीटर तक की पगडिया बांधकर अपना नाम इंडिया बुक ऑफ रेकॉर्ड में दर्ज करवा चुके हैं।

478.5 मीटर लम्बाई के कपड़े से बांधी गई सबसे बडी पगड़ी की परिधि (Circumference) 7 फुट 8 इंच बताई गई है। पवन व्यास के अनुसार इस पगड़ी का वजन करीब 18 किलोग्राम है। 478.5 मीटर लम्बाई की पगड़ी बांधने में 8.7 मीटर लम्बाई के 55 साफे कपड़ो का उपयोग किया गया। पगड़ी को बांधने के लिए किसी भी प्रकार की पिन या अन्य सामग्री का इस्तेमाल नहीं किया।

विश्व की सबसे बड़ी पगड़ी बांधने का दावा करने वाले पवन व्यास 478.5 मीटर लम्बी पगड़ी बांधने के बाद अब गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉर्ड और वर्ल्ड बुक ऑफ रेकॉर्ड में आवेदन करेंगे, ताकि राजस्थानी पगड़ी की ख्याति विश्व स्तर पर फैले। 20 वर्षीय पवन व्यास के अनुसार विश्व में सबसे बड़ी 400 मीटर तक पगड़ी बांधी जा चुकी है।

पवन व्यास के हाथों से सिर पर पगड़ी बंधवाने वाले राहुल शंकर थानवी ने बताया कि कहते हैं कि शुरुआत में थोड़ा भारी लगा था, लेकिन अब अच्छा महसूस हो रहा है। राजस्थान की शान और परंपरा जिसे लोग भूलते जा रहे हैं, उसके लिए मेरा चयन हुआ, यह अच्छी बात मानता हूं।

 

गौरतलब है कि 20 वर्ष की उम्र में पवन व्यास अब तक करीब 1 लाख से अधिक अलग-अलग समाज व लोगों के सिर पर पगड़िया बांध चुके हैं। पवन के परिवार में उनके पिता, ताऊ और भाई भी साफा बांधने में सिद्धहस्त हैं।

✍️ रिपोर्ट: दिनेश दिनकर

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close