मनोरंजनवायरलसमय विशेषसाहित्य
Trending

‘बड़ी फुरसत है मुझे आजकल’ कवि राजपाल सिंह की नई कविता !

बड़ी फुरसत है मुझे आज-कल
सिर्फ तुम्हारी बातें करता हूं

काम तो और भी है मेरे पास
मगर सिर्फ तुमको ही याद करता हूं

अजनबी बनकर आये थे
अब सब से करीबी बन गये हो

दूर कर ही नहीं सकता तुमको
तुम मुझ में ही बस गये हो

सासों को बस अब तेरा ही,  एहसास समझ आता है
कोई शख्स अब कहां, इस दिल को भाता है

बांध दे खुदा हमें एक ही डोर से
अब बस यही दुआ करता हूं

मैं तेरा बनकर ही जीऊं, तेरा बनकर ही मरूं
यही मिन्नतें करता हूं

बड़ी फुरसत है मुझे आज-कल
सिर्फ तुम्हारी बातें करता हूं।

-कवि राजपाल सिंह

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close