Breaking NewsTop Newsक्राइमदेशनई दिल्लीबिहारराजनीतिवायरलसोशल मीडिया

मुख्यमंत्री नीतीश के गृह जिले नालंदा में जज की गाड़ी पर हमला, बदमाशों ने गोली चलाई, जज बाल-बाल बचे

बिहार के नालंदा जिले के हिलसा में एक जज की गाड़ी पर पहले तो ईंट-पत्थरों से हमला किया गया, बाद में गोलीबारी भी हुई। अचानक हुए इस जानलेवा हमले में हिलसा के अपर जिला जज तो बच गए, लेकिन उनका सरकारी वाहन बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। चालक गंभीर रूप से जख्मी हो गया है। यह घटना गुरुवार की शाम शहर के योगीपुर रोड की बताई जा रही है।

अपर जिला जज जयकिशोर दुबे ने बताया कि हर रोज की तरह अपर ऑफिस बंद होने के बाद वे अपने वाहन से आवास लौट रहे थे। इसी दौरान योगीपुर रोड में एक बाइक सवार ने उनके वाहन की दाहिनी तरफ पीछे से टक्कर मारी। आवाज सुनने के बाद वाहन रोककर चालक संजय कुमार उतरा और बाइक सवार को कुछ बोला। दोनों के बीच कहा-सुनी होने लगी। इसी दौरान कोर्ट से अपने-अपने घर लौट रहे अन्य स्टाफ भीड़ देख वहां पहुंचे और बाइक सवार को अपने कब्जे में ले लिया।

अज्ञात बदमाशों द्वारा क्षतिग्रस्त की गई जज की सरकारी गाड़ी

स्थानीय लोगों ने पुलिस को फोन कर घटना की सूचना दी। पुलिस जब तक पहुंचती, उससे पहले एक दर्जन से अधिक बाइक सवार पहुंचे और गाली-गलौज करते हुए पत्थरबाजी करने लगे। पत्थरबाजी होते देख भीड़ में शामिल लोगों के बीच अफरा-तफरी मच गई। इसी बीच कोर्ट कर्मियों के चंगुल से बाइक सवार ने खुद को छुड़ा लिया और साथियों के सहयोग से चालक की जमकर पिटाई करने लगा। किसी प्रकार चालक भागकर वाहन में आ बैठा और तेजी से वाहन लेकर वहां से भाग निकला। जैसे ही वाहन वहां से खिसका, बाइक सवारों की भीड़ से फायरिंग की जाने लगी। लोगों ने चार राउंड फायरिंग की बात बताई। हालांकि इस फायरिंग में कोई हताहत नहीं हुआ।

हिलसा में जज की गाड़ी पर पत्थरबाजी की घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस

मौके पर थानाध्यक्ष सुरेश प्रसाद अन्य पुलिस पदाधिकारी एवं बल के साथ योगीपुर रोड पहुंचकर मामले की छानबीन शुरू की। इस दौरान कारतूस का एक खोखा के साथ-साथ कई मजबूत साक्ष्य भी हाथ लगे हैं। वाहन पर हुए हमले से घबराकर थाना पहुंचे अपर जिजा जज दुबे को डीएसपी कृष्ण मोहन ने अपनी सुरक्षा में ब्लॉक कॉलोनी क्वार्टर तक पहुंचाया।

अपर जिला जज जयकिशोर दुबे की सुरक्षा के लिए पुलिस जवान प्रतिनियुक्त है। प्रतिनियुक्त जवान विशेष कार्य से छुट्टी पर था। इस कारण जज दुबे बगैर सुरक्षा गार्ड के ही ऑफिस गए और लौट रहे थे।

दो महीने पहले 21 अक्टूबर को पुलिस उप-निरीक्षक द्वारा औरंगाबाद के जिला जज का पीछा करने, गाली-गलौज देने और मारपीट करने का मामला सामने आया था जिसपर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता को उप निरीक्षक को पक्षकार बनाने के निर्देश दिए हैं।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close