Breaking NewsTop Newsक्राइमदेशनई दिल्लीराजनीतिवायरलसोशल मीडिया

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के घर में जबरन घुसे बीजेपी कार्यकर्ता, ‘दिल्ली महिला आयोग’ ने पुलिस को भेजा नोटिस

दिल्ली की केजरीवाल सरकार और आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाया है कि दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास के बाहर धरना दे रहे बीजेपी कार्यकर्ता गुरुवार को जबरन अंदर घुस गए। इस दौरान उन्होंने सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों के साथ धक्का-मुक्की भी की। बताया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस ने मामले में छह कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है। इससे पहले बीजेपी की दिल्ली इकाई ने सोशल मीडिया पर आए एक वीडियो क्लिप का हवाला देते हुए उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और आम आदमी पार्टी के नेता दुर्गेश पाठक के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करा कर आरोप लगाया कि बीजेपी शासित नगर निगमों के नेताओं की ‘हत्या’ करवाने की ‘साजिश’ की जा रही है।

 

आम आदमी पार्टी के नेता दुर्गेश पाठक ने एक बयान में इन आरोपों को बकवास बताते हुए कहा कि भाजपा लोगों की छवि धूमिल करने के लिए दुष्प्रचार करती रहती है। उधर, दिल्ली बीजेपी के उपाध्यक्ष अशोक गोयल देवराहा ने अपने महापौरों को मारने की साजिश का विरोध करते हुए कहा कि बीजेपी कार्यकर्ता ऐसी चुनौतियों का जवाब देना जानते हैं।

 

इस पूरे घटनाक्रम पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर हमले की कड़ी निंदा करते हुए ट्वीट करके रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से पूछा, “राजनाथ जी, क्या आपको नहीं लगता कि पुलिस की मौजूदगी में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री के निवास पर हिंसक हमला ग़लत है? आम आदमी पार्टी और दिल्ली सरकार द्वारा किसानों के आंदोलन को समर्थन देने पर भाजपा में इतनी बौखलाहट क्यों?”

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर भीड़ द्वारा किए गए इस बवाल को लेकर राजनीति तेज हो गई है। दिल्ली महिला आयोग (DCW) ने दिल्ली पुलिस के खिलाफ नोटिस जारी किया है। डीसीडब्ल्यू प्रमुख स्वाति मालीवाल ने आरोप लगाया है कि उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की गैरमौजूदगी में उनकी पत्नी और बच्चों पर हमले की कोशिश की गई है।

स्वाति मालीवाल ने ट्वीट करते हुए लिखा, ”दिल्ली के उपमुख्यंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर उनकी गैरमौजूदगी में उनकी पत्नी और बच्चों पर हमले का प्रयास हुआ। हमने पुलिस को नोटिस जारी किया है। कैसे पुलिस के सामने गुंडे उनके घर में घुसे? कितने लोग गिरफ्तार हुए? जब एक जनप्रतिनिधि का परिवार सुरक्षित नहीं है तो जनता कैसे होगी?”

दिल्ली महिला आयोग ने पुलिस से जवाब मांगा है। आयोग ने पूछा है कि आवास के बाहर इतनी बड़ी संख्या में भीड़ कैसे जुटी? सुरक्षा में कहां चूक हुई? इसके साथ ही दिल्ली पुलिस से एफआईआर की कॉपी मांगी गई है और साथ ही गिरफ्तार किए गए लोगों के बारे में जानकारी के साथ-साथ अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस की तरफ से क्या कदम उठाए जा रहे हैं, यह भी पूछा गया है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close