Breaking NewsGamesIPL 2020Top NewsWorldखेलगुजरातदेशवायरलसोशल मीडिया

पार्थिव पटेल ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से लिया संन्यास

भारतीय विकेटकीपर और बल्लेबाज पार्थिव पटेल ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने का ऐलान कर दिया है। 35 वर्षीय पटेल ने बुधवार को एक पोस्ट के जरिए घोषणा की।

 

पार्थिव पटेल ने टि्वटर पर लिखा, ‘आज मैं क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास का ऐलान कर रहा हूं और इसी के साथ मेरा 18 साल लंबा करियर समाप्त हो रहा है। मैं कई लोगों का आभार व्यक्त करना चाहता हूं। बीसीसीआई ने मुझ पर बहुत ज्यादा विश्वास जताया और 17 साल के एक लड़के को टीम इंडिया के लिए खेलने का मौका मिला।’

संन्यास लेने की घोषणा करते हुए पटेल ने अपने टि्वटर पर पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरभ गांगुली का शुक्रिया अदा किया। जिनकी कप्तानी में पटेल ने डेब्यू किया था। पटेल ने आगे लिखा, ‘मैं खास तौर पर दादा का ऋणी हूं, मेरे पहले कप्तान, जिन्होंने मुझ पर काफी विश्वास जताया।’

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरभ गांगुली के साथ पार्थिव पटेल (फाइल फोटो)

17 साल‌ की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने वाले पार्थिव पटेल ने अपने 18 साल के करियर में भारत के लिए 25 टेस्ट, 38 वनडे इंटरनैशनल और दो टी20 इंटरनैशनल मुकाबले खेले। घरेलू क्रिकेट की बात करें तो उन्होंने गुजरात के लिए 194 मैच खेले हैं। वह जनवरी 2018 में भारत की जोहान्सबर्ग में साउथ अफ्रीका के खिलाफ मिली ऐतिहासिक टेस्ट टीम का भी हिस्सा थे। इसके एक साल बाद ऑस्ट्रेलिया में पहली बार टेस्ट सीरीज जीतने वाले भारतीय दल में भी पटेल शामिल थे।

बता दें कि पार्थिव पटेल ने साल 2002 में भारत के लिए इंग्लैंड के खिलाफ नॉटिंगम में डेब्यू किया। वह भारत के लिए टेस्ट खेलने वाले सबसे युवा विकेटकीपर थे। उस समय उनकी उम्र 17 साल 153 दिन थी। वैसे तो क्रिकेट के मैदान में पटेल औसतन करियर से काम चला रहे थे लेकिन 2004 में दिनेश कार्तिक और फिर महेंद्र सिंह धोनी के आने के बाद पार्थिव पटेल टीम के नियमित सदस्य नहीं रह पाए।

 

गौरतलब है कि पटेल ने गुजरात के लिए पहला रणजी ट्रॉफी मैच भारत के लिए डेब्यू करने के दो साल दो महीने बाद नवंबर 2004 में खेला। पटेल ने हालांकि वापसी की लेकिन वह टीम में जगह पक्की नहीं कर पाए क्योंकि एक और विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा टेस्ट के लिए पहली पसंद बन गए। हालांकि पटेल ने हार नहीं मानी और इंडियन प्रीमियर लीग और घरेलू क्रिकेट में लगातार अच्छा प्रदर्शन करते रहे। 2015 में उन्होंने मुंबई इंडियंस के लिए 15 मैचों में 339 रन बनाए। इसके बाद इसी साल उन्होंने अपना पहला लिस्ट ए शतक लगाया और गुजरात को उसका विजय हजारे ट्रॉफी जीतने में मदद की।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close