Breaking NewsBusinessTop Newsक्राइमदेशमध्य प्रदेशराजनीतिवायरलव्यापारसाहित्यसोशल मीडिया

मुख्यमंत्री शिवराज ने अपनी पत्नी के नाम से किसी अन्य की लिखी कविता की शेयर, असली रचनाकार आई सामने तो हुई किरकिरी

साहित्यकारों और बॉलीवुड वालों के बीच अक्सर किसी कविता, कहानी के कॉपीराइट को लेकर नोंक-झोंक देखने को मिलती रहती है। किंतु इस बार एक प्रदेश के मुख्यमंत्री और एक महिला रचनाकार के बीच कविता के कॉपीराइट के उल्लंघन का मामला सामने आया है जिससे मुख्यमंत्री और उनकी पत्नी की सोशल मीडिया पर किरकिरी हो रही है। बता दें कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 8 दिन पहले अपने ट्विटर अकाउंट पर एक कविता शेयर की थी, जिसे उन्होंने अपनी पत्नी साधना सिंह का लिखा बताया था। मुख्यमंत्री शिवराज ने लिखा था कि साधना सिंह ने कविता अपने पिता के लिए लिखी थी, जिनकी कुछ दिनों पहले ही मौत हो गई थी, लेकिन अब एक अन्य यूजर ने दावा किया है कि कविता उनकी लिखी हुई है।

22 नवंबर को यह कविता पोस्ट करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्पष्ट लिखा था कि यह कविता उनकी पत्नी साधना सिंह ने अपने पिता के लिए लिखी थी, लेकिन भूमिका बिरथरे (Twitter User Bhumika Birthare) नामक यूजर ने दावा किया है कि यह कविता उनकी रचना है। भूमिका ने 21 नवंबर का वो पोस्ट भी शेयर किया है जिसमें उन्होंने यह कविता सोशल मीडिया पर डाली थी।

 

भोपाल की रहने वाली और पेशे से लेखिका, एंकर भूमिका बिरथरे ने कविता पर अपना दावा करते हुए कविता के शब्दों में हेरफेर पर आपत्ति जताते हुए लिखा कि वे अपने पिता को डैडी कहती थीं, लेकिन सोशल मीडिया पर इसे कुछ लोग बाबूजी, बाऊजी या पापा जैसे शब्दों के साथ शेयर कर रहे हैं। मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री को टैग करते हुए भूमिका अपनी लड़ाई ट्विटर पर भी लेकर गईं और लिखा ”ये कविता मैंने लिखी है आपकी पत्नी ने नहीं, कृपया मुझे इसका क्रेडिट दें और इसका शीर्षक डैडी और बाबूजी नहीं, कृपया मेरी भावनाओं के साथ खिलवाड़ ना करें।” उन्होंने आगे अपील की है कि कविता के शब्द बेहद व्यक्तिगत हैं और इससे उनकी भावनाएं जुड़ी हैं। इसे तोड़-मरोड़कर कविता के साथ अन्याय न करें।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ कविता पर अपना दावा करने वाली भूमिका बिरथरे (फाइल फोटो)

इस कविता के साथ अचानक चर्चा में आई भूमिका ने कहा कि ”मैंने वो लिखा जो मैंने महसूस किया, क्योंकि अपनी पिता की अंतिम यात्रा के दौरान सारी रस्में मैंने निभाई थीं। मैं आई फोन के नोटपैड का उपयोग करती हूं, इसलिए किस्मत से उस कविता की तारीख और समय का उल्लेख मौजूद है। बाद में मैंने उसे अपने परिवार के एक व्हॉट्सऐप ग्रुप और कुछ करीबी दोस्तों के साथ साझा किया था। उस दिन मैं बहुत रोई थी क्योंकि वे शब्द केवल एक कविता ही नहीं थे, मेरी भावना थी।”

 

भूमिका बिरथरे ने बताया कि ”21 नवंबर को मैंने कविता को फेसबुक पर पोस्ट किया, भोपाल वापस आने के बाद मेरी दोस्त ने एक स्क्रीनशॉट साझा किया कि माननीय सीएम की पत्नी साधना सिंह ने एक व्हाट्सऐप ग्रुप में कविता साझा की है, जिसका जवाब मैंने एक स्माइली के साथ दिया।

कविता पर दावा‌ करने वाली लेखिका और एंकर भूमिका बिरथरे (तस्वीर सोशल मीडिया से साभार)

लेकिन उसके बाद मुझे पता चला कि मुख्यमंत्री ने भी ट्वीट कर कहा था कि यह कविता उनकी पत्नी ने लिखी है। मुझे इस पर कड़ी आपत्ति है। आप मेरे मामा हैं, मेरे पसंदीदा मुख्यमंत्री हैं, मैं इस सबका राजनीतिकरण नहीं करना चाहती। बस इतना चाहती हूं कि मेरी कविता का क्रेडिट मुझे मिले।”

 

बता दें कि 18 नवंबर की देर रात मुख्यमंत्री के 88 वर्षीय ससुर घनश्यामदास मसानी का निधन हो गया था। उस समय मुख्यमंत्री अपनी पत्नी और दोनों बेटों के साथ तिरुपति बालाजी के दर्शन के लिए गए थे। खबर मिलते ही शिवराज सिंह चौहान अपनी यात्रा बीच में छोड़ वापस लौट आए थे।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close