Breaking NewsTop Newsदेशनई दिल्लीबिहारराजनीतिवायरलसोशल मीडिया

बिहार में नीतीश कुमार आज 7वीं बार लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ, बनाया अनोखा रिकॉर्ड

बिहार विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद यह तय हो गया था कि राज्य में एनडीए गठबंधन की ही सरकार बनेगी। मगर मंत्री पद के बंटवारे और नीतीश कुमार की झिझक के चलते एनडीए मुख्यमंत्री पद का नाम फाइनल नहीं कर पा रही थी। अब रविवार को बिहार में नए मुख्यमंत्री के तौर पर नीतीश कुमार को औपचारिक रूप से चुन लिया गया है। हालांकि अब तक राज्य में उप-मुख्यमंत्री के नाम पर सहमति नहीं बन पाई है। पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को इस बार उनके पद से हटा दिया गया है और उपमुख्यमंत्री के लिए नए चेहरों की तलाश जारी है।

पहले जेडीयू पार्टी के विधायकों ने नीतीश को अपना नेता चुना, उसके बाद एनडीए के विधायकों ने। इस तरह नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद के लिए नामित हो गए। राज्यपाल से मिलकर उन्होंने सरकार बनाने का दावा भी पेश किया। सोमवार शाम को चार बजे नीतीश अपने सहयोगियों के साथ सातवीं बार बिहार के सीएम पद की शपथ लेंगे। नीतीश कुमार ने कहा कि मैं इस बार मुख्यमंत्री नहीं बनना चाहता था, लेकिन बीजेपी नेताओं के आग्रह और निर्देश के बाद मैंने यह पद स्वीकार किया है।

बता दें कि एनडीए के विधायकों की बैठक के दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पर्यवेक्षक के रूप में पटना में मौजूद रहे। नीतीश का नाम आसानी से तय हो गया, वहीं यह भी तय हो गया कि बीजेपी के सुशील कुमार मोदी इस बार बिहार के डिप्टी सीएम नहीं होंगे। पार्टी उनकी जगह दो नए चेहरों को मौका दे सकती है। डिप्टी सीएम नहीं बनने का संकेत खुद सुशील मोदी ने ट्वीट कर दिया। उन्होंने लिखा, ‘बीजेपी-संघ परिवार ने मुझे 40 वर्षों के राजनीतिक जीवन में इतना दिया कि शायद किसी दूसरे को नहीं मिला होगा। आगे जो भी जिम्मेदारी मिलेगी, उसे निभाऊंगा। कार्यकर्ता का पद तो कोई छीन नहीं सकता।’

 

अब बिहार में उप-मुख्यमंत्री को लेकर चर्चा तेज हो गई है, बहरहाल इस बारे में आज शपथ ग्रहण समारोह में नाम साफ हो पाएगा। लेकिन बीजेपी सूत्रों के अनुसार किशोर प्रसाद और रेणु देवी का नाम लगभग तय माना जा रहा है। इन दो नाम के सहारे पिछड़े, अति पिछड़े और महिला वोटरों को साथ लाने की कोशिश है। बीजेपी में कुछ और नाम डिप्टी सीएम की दौड़ में बताए जा रहे थे, उन्हें भी बड़ा मंत्रालय दिया जा सकता है।

सोमवार को जैसे ही नीतीश मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, वैसे ही राष्ट्रीय स्तर पर सबसे ज्यादा बार मुख्यमंत्री बनने के रिकार्ड की बराबरी कर लेंगे। देश में 7वीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने का रिकार्ड अभी तक सिर्फ गोवा के मुख्‍यमंत्री रहे प्रताप सिंह राणे के पास है। राणे 1980 से 2007 के बीच अलग-अलग समय में 7 बार मुख्यमंत्री की कुर्सी संभाल चुके हैं। तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता अलग-अलग समय में कुल 6 बार मुख्यमंत्री रहीं थीं।

विदित हो कि बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए को 125 सीटें मिलीं। वहीं महागठबंधन को 110 सीटें हासिल हुई हैं। एनडीए में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनी। बीजेपी को 74 सीट, जेडीयू को 43 सीट, वीआईपी और हम को 4-4 सीट हासिल हुईं।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close