Breaking NewsBusinessTechTop Newsउत्तर प्रदेशक्राइमछोटा पर्दादेशनई दिल्लीमनोरंजनमहाराष्ट्रराजनीतिवायरलसोशल मीडिया

जेल से छूटते ही अर्नब गोस्वामी ने उद्धव ठाकरे को चुनौती देते हुए कहा कि खेल तो अब शुरू हुआ है

रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी को सुप्रीम कोर्ट से आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में जमानत मिल गई है। बुधवार की शाम तलोजा जेल से बाहर आकर अर्णब गोस्वामी सीधे अपने स्टूडियो पहुंचे। स्टूडियो पहुंचते ही रिपब्लिक टीवी के वरिष्ठ पत्रकार अर्णब गोस्वामी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को ललकारते हुए कहा कि खेल तो अब शुरू हुआ है। अर्नब ने आगे कहा- उद्धव ठाकरे आपने मुझे एक पुराने, फर्जी मामले में गिरफ्तार किया, और मुझसे माफी तक नहीं मांगी। खेल अब शुरू हुआ है। मैं हर भाषा में रिपब्लिक टीवी शुरू करूंगा और अंतरराष्ट्रीय मीडिया में भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराऊंगा। आने वाले चंद महीनों में अगर मैंने ऐसा नहीं किया तो अपना नाम बदल लूंगा।

 

अर्णब गोस्वामी ने फिर से गिरफ्तार होने की आशंका व्यक्त करते हुए कहा- मैं तो जेल के अंदर से भी (चैनल) लॉन्च कर दूंगा और आप (ठाकरे) कुछ नहीं कर पाएंगे। क्योंकि मेरे साथ देश की जनता है और आप अपना देख लो क्योंकि आप तो अकेले हो। आगे उन्होंने मराठी में कहा कि मुझे बेल देने के लिए मैं सुप्रीम कोर्ट का शुक्रिया अदा करता हूं। सत्य की जीत हुई। जय महाराष्ट्रा। बता दें कि मराठी बोलने हुए अर्नब गोस्वामी अपनी सहयोगी का सहारा लेते भी नजर आए।

उल्लेखनीय है कि 4 नवंबर से गिरफ्तार अर्णब गोस्वामी के मामले की सुनवाई करते हुए न्यायाधीश चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा था कि अर्नब और दो अन्य आरोपियों को 50 हजार रुपये के मुचलके पर अंतरिम जमानत पर रिहा किया जाए। न्यायमूर्ति धनंजय वाई चंद्रचूड और न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी की पीठ ने कहा कि अगर राज्य सरकारें लोगों को निशाना बनाती हैं तो उन्हें इस बात का अहसास होना चाहिए कि नागरिकों की स्वतंत्रता की रक्षा के लिए उच्चतम न्यायालय है। शीर्ष अदालत ने इस बात पर चिंता व्यक्त की कि राज्य सरकारें कुछ लोगों को विचारधारा और मत भिन्नता के आधार पर निशाना बना रही हैं।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close