Breaking NewsTop Newsक्राइमदेशनई दिल्लीपश्चिम बंगाल चुनावराजनीतिवायरलसोशल मीडिया

पश्चिम बंगाल BJP अध्यक्ष की TMC कार्यकर्ताओं को धमकी – सुधर जाओ नहीं तो हाथ-पैर तोड़ शमशान पहुंचा दिए जाओगे

बिहार विधानसभा चुनाव के बाद अब भारतीय जनता पार्टी ने पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी है। चुनाव की तिथियों को लेकर चुनाव आयोग की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है किन्तु पश्चिम बंगाल फतेह करने के लिए बीजेपी ने अभी से कमर कस ली है। पश्चिम बंगाल के बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने अपने कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए टीएमसी कार्यकर्ताओं को धमकाना शुरू कर दिया है। रविवार को एक कार्यक्रम में बीजेपी अध्यक्ष घोष ने कहा, – ‘मैं उत्‍पात मचाने वाले ममता दीदी के लोगों से कहना चाहता हूं कि वे अपने आपको 6 महीने के भीतर सुधार लें। नहीं तो उनके हाथ, सिर और पसलियां तोड़ दी जाएंगी। आप लोगों को घर जाने से पहले अस्‍पताल जाना पड़ जाएगा।’ दिलीप घोष इतने पर भी नहीं थमे। उन्‍होंने कहा- ‘अगर इन लोगों ने ज्‍यादा उत्‍पात मचाया तो इन्‍हें श्‍मशान गृह भेज दिया जाएगा।’

 

जनसभा को संबोधित करते हुए दिलीप घोष ने पश्चिम बंगाल में केंद्रीय बल के जरिए चुनाव कराने की बात कही। उन्होंने कहा, ‘अगले विधानसभा चुनाव में दीदी की पुलिस बैठी रहेगी और दादा की पुलिस काम करेगी। राज्य पुलिस को बूथ से 100 मीटर दूर आम के पेड़ के नीचे कुर्सी पर बैठा दिया जाएगा और वह वहां से बैठ कर मतदान देखेगी।’

किसी पार्टी अध्यक्ष की तरफ से ऐसे धमकी भरे बयान देने से राज्य में आरोप-प्रत्यारोप वाली राजनीति शुरू हो गई है। विदित हो कि इससे पहले, फेक ट्वीट किए जाने के एक मामले में दिलीप घोष ने तृणमूल कांग्रेस की सांसद काकोली घोष दस्तीदार के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा था कि काकोली ने उनके वक्तव्य को विकृत कर ट्वीट किया है। घोष ने अपने अधिवक्ता को इस मामले में तृणमूल सांसद के खिलाफ मानहानि की कार्रवाई करने को कहा है।‌

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के साथ पश्चिम बंगाल के बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष (फाइल फोटो)

पश्चिम बंगाल में अगले साल होने जा रहे विधानसभा चुनाव की तैयारियों में बीजेपी पूरी तरह से जुट गई है। तीन दिन पहले केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल में आदिवासी इलाकों का दौरा किया था। इस मौके पर उन्‍होंने मतुआ समुदाय के परिवार के यहां खाना भी खाया था। शाह ने इस दौरान कई वरिष्‍ठ नेताओं से भी मुलाकात की थी।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close