Breaking NewsTop NewsWorldदेशनई दिल्लीवायरलविदेशसोशल मीडिया

भारतीय आर्मी चीफ जनरल नरवणे को नेपाल की राष्ट्रपति करेंगी ‘जनरल ऑफ द नेपाल आर्मी’ से सम्मानित

भारतीय सीमा पर तनाव के माहौल के दौरान एक गौरवान्वित महसूस करने वाली खबर सामने आई है। नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी सेना प्रमुख को नेपाल सेना के जनरल की मानद रैंक प्रदान करेंगी। थल सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकंद नरवणे नेपाल पहुंच गए हैं। बता दें कि वे तीन दिन के दौरे पर नेपाल के जनरल पूर्ण चंद्र थापा के न्यौते पर गए हैं। नेपाल पहुंचने पर जनरल नरवणे का नेपाल के सैन्य अधिकारियों ने स्वागत किया। सीमा विवाद के बाद सेना प्रमुख का यह पहला नेपाल दौरा है। गुरुवार को जनरल नरवणे सबसे पहले वीर स्मारक पर नेपाल के बहादुर सैनिकों को श्रद्धाजलि देंगे। नेपाल की सेना की तरफ से भारतीय आर्मी चीफ को ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ दिया जाएगा। सुबह नेपाली सेना के चीफ के साथ जनरल नरवणे की मीटिंग होगी।

नेपाल पहुंचने पर आर्मी चीफ जनरल नरवणे का नेपाल के सैन्य अधिकारी स्वागत करते हुए

जनरल नरवणे नेपाल को भारत की ओर से दवाएं और मेडिकल उपकरण भेंट करेंगे। जानकारी के मुताबिक, दोपहर के बाद नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी भारतीय सेना प्रमुख को नेपाल सेना के जनरल की मानद रैंक ‘जनरल ऑफ द नेपाल आर्मी’ प्रदान करेंगी। सन् 1950 से ही ऐसी परंपरा चली आ रही है। इसमें भारत भी नेपाली सेना के चीफ को भारतीय सेना के जनरल की मानद रेंक देता है।

गौरतलब है कि मौजूदा दौर में सेना प्रमुख का यह दौरा काफी मायने रखता है क्योंकि हाल के दिनों में नेपाल और भारत के साथ आपसी रिश्ते में काफी खटास आ गई थी। मामले ने तब तूल पकड़ा जब रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आठ मई को उत्तराखंड के धारचूला से लिपुलेख को जोड़ने वाली सड़क का उद्घाटन किया था। तब नेपाल ने लिपुलेख को अपना इलाका बता दिया था।
जिससे बौखलाए नेपाल ने एक नए विवादित राजनीतिक नक्शे के जरिए उत्तराखंड के कई हिस्सों के नेपाल में होने का दावा किया था। उस वक्त सेना प्रमुख जनरल नरवणे ने कहा था कि नेपाल किसी और के इशारे पर भारत का विरोध कर रहा है। इससे नेपाल काफी नाराज हो गया था। उम्मीद जताई जा रही है कि सेना प्रमुख की नेपाल की तीन दिवसीय यात्रा से दोनों देशों के बीच संबंधों में नरमी आएगी।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close