Breaking NewsTop Newsउत्तर प्रदेशक्राइमदेशनई दिल्लीवायरलसोशल मीडिया

उत्तर प्रदेश में मंदिर में मुस्लिम युवकों के नमाज़ पढ़ने का है विदेशी फंडिंग से कनेक्शन!

उत्तर प्रदेश के मथुरा के नंदबाबा मंदिर परिसर में नमाज पढ़ने वाले फैसल खान और उसके एक साथी को यूपी पुलिस ने दिल्ली के जामिया नगर से हिरासत में लिया है। इस मामले में मंदिर के सेवायत ने चार लोगों पर केस दर्ज कराया है। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है। आरोप है कि 29 अक्टूबर को मथुरा के नंद बाबा मंदिर में चार लोग जबरदस्ती घुस आए थे। इनमें से दो लोगों ने मंदिर के सेवायतों को गुमराह कर मंदिर परिसर में नमाज पढ़ी थी।

मीडिया से बातचीत में आरोपी फैसल खान ने कहा कि हमने धोखे से नमाज नहीं पढ़ी थी। सबके सामने नमाज पढ़ी। वहां कई लोग मौजूद थे। हमें किसी ने मना नहीं किया। नमाज पढ़कर कोई साजिश या गुनाह नहीं किया है। एफआईआर दर्ज होने की बात पर फैसल खान ने कहा कि ये केस राजनीतिक कारणों दर्ज हुआ है। फैसल खान ने कहा कि मंदिर प्रांगण में हमने पूछकर नमाज पढ़ी थी। वहां लोग मौजूद थे, अगर कोई डांटता तो हम क्यों वहां नमाज पढ़ते। सद्भावना के लिए नमाज पढ़ी थी। हमने कुछ भी गलत नहीं किया है और हमने सोशल मीडिया पर फोटो भी नहीं डाली थी।

मथुरा के नंदबाबा मंदिर परिसर में फैसल खान और उसके एक साथी नमाज़ पढ़ते हुए (सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर)

बता दें कि मंदिर प्रशासन की ओर से दर्ज एफआईआर में कहा गया है कि सोशल मीडिया पर ऐसी फोटो डालने से हिन्दू समुदाय की भावनाएं आहत हुई हैं और आस्था को गहरी ठेस पहुंची है।

गौरतलब है कि ब्रज चौरासी कोस यात्रा करते हुए दो मुस्लिम युवकों द्वारा मथुरा के नंदगांव स्थित नंदबाबा मंदिर परिसर में नमाज अदा करते हुए फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मामले ने तूल पकड़ लिया। रविवार देर रात इस मामले में थाना बरसाना में सेवायत गोस्वामी की तहरीर पर पुलिस ने दोनों मुस्लिम युवकों सहित 4 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। दर्ज कराई एफआईआर में इन युवकों के विदेशी संगठनों से संबंध होने की आशंका जताते हुए विदेशी फंडिंग की जांच करने की भी मांग की गई है। सोमवार को सेवायतों ने मंदिर को गंगाजल से धुलवाकर हवन-पाठ किया। मामले में पुलिस दो आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

 

मंदिर परिसर में मुस्लिम युवकों द्वारा नमाज पढ़ने के मामले में दर्ज एफआईआर में कहा गया है कि 29 अक्टूबर को दोपहर करीब साढ़े 12 बजे फैजल खान और चांद मोहम्मद जो दिल्ली के खुदाई खिदमतगार संस्था के सदस्य हैं, इसी संस्था के आलोक रतन और नीलेश गुप्ता के साथ आए। साथ ही एफआईआर में इनके किसी विदेशी मुस्लिम संगठन से जुड़े होने की सम्भावना भी व्यक्त की गई है। रिपोर्ट में कहा है कि ये लोग मंदिर में फोटो खींचकर कहीं दुरुपयोग ना करें और कहीं इनके लिए किसी विदेशी मुस्लिम संगठन से फंडिंग तो नहीं हो रही, इनके उस संगठन से कोई संबंध तो नहीं, कहीं यह कृत्य साम्प्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने के लिए तो नहीं किया गया, इसकी जांच को जाए।

सेवायत की तहरीर पर उत्तर प्रदेश के थाना बरसाना पुलिस ने खुदाई खिदमतगार संस्था ने दिल्ली के फैजल खान, चांद मोहम्मद, आलोक रतन और नीलेश गुप्ता के खिलाफ आईपीसी की धारा 153A, 295 और 505 के तहत रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। इस संबंध में जानकारी देते हुए एसपी देहात श्रीश चंद ने बताया कि सेवायत कान्हा गोस्वामी की शिकायत पर नंदबाबा मंदिर परिसर में मुस्लिम युवकों द्वारा नमाज पढ़ने के मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। अग्रिम कार्रवाई की जा रही है।

 

बता दें कि मथुरा में इस तरह का मामला तब सामने आया है, जब यहां पर स्थित कृष्ण जन्मभूमि और उसके पास बनी मस्जिद का मामला अदालत में विचाराधीन है। बीते दिनों ही यहां पर कुछ संगठनों ने शाही ईदगाह मस्जिद को हटाने की अपील की है और मथुरा जिला अदालत में याचिका लगाई है, जिसपर नवंबर में ही सुनवाई होनी है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close