Breaking NewsTop Newsक्राइमदेशनई दिल्लीपंजाबबिहारराजनीतिवायरलसोशल मीडिया

राहुल गांधी ने PM मोदी की तुलना रावण से की, कहा- पहली बार दशहरा में ‘रावण’ नहीं, प्रधानमंत्री का पुतला जलाया गया

चुनाव प्रचार में नेताओं के भाषणों में गिरती भाषाई मर्यादा का एक और उदाहरण लोगों को हैरान कर रहा है। जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तुलना रावण से करते हुए एक अशोभनीय बयान देकर बिहार की राजनीति में हड़कंप मचा दिया है।

केरल की वायनाड लोकसभा सीट से कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने कहा कि इस दशहरे में रावण का पुतला नहीं देश के प्रधानमंत्री का पुतला पंजाब में जलाया गया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का पुतला जलाया जाना दुख की बात है, लेकिन युवाओं के मन में प्रधानमंत्री के प्रति गुस्सा है। राहुल ने कहा कि कांग्रेस सरकार चलाना जानती है, युवाओं को रोजगार देना जानती है, लेकिन हम झूठ बोलना नहीं जानते, यही कमी है।

 

बिहार विधानसभा चुनाव में प्रचार-प्रसार करते हुए वाल्मीकि नगर में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने जहां पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव की तारीफ की, वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा। राहुल गांधी ने आगे कहा कि लॉकडाउन और नोटबंदी का लक्ष्य एक ही था। उन्होंने कहा कि नोटबंदी में आपके पॉकेट से पैसा निकालकर देश के पांच बड़े उद्योगपतियों को दे दिया गया और लॉकडाउन में भी छोटे और मध्यम दर्जे के व्यापारी का व्यापार बंद हो गया और इसकी आड़ में उद्योगपतियों के कर्जे माफ कर दिए गए।

राहुल गांधी ने कृषि कानूनों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि आम तौर पर दशहरे पर रावण के पुतले जलाए जाते हैं, लेकिन पंजाब में इस बार प्रधानमंत्री और उद्योगपतियों के पुतले जलाए गए हैं। उन्होंने कहा, ”ये दुख की बात है, लेकिन ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि किसान परेशान है, युवाओं के मन में गुस्सा है।” पूर्व कांग्रेस अध्‍यक्ष ने देश में और बिहार में बेरोजगारी के लिए नीतीश कुमार और प्रधानमंत्री को दोषी बताते हुए कहा कि बिहार के लोगों को दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, बेंगलुरु में रोजगार मिलता है, लेकिन बिहार में नहीं मिलता, क्योंकि नीतीश कुमार और नरेंद्र मोदी की कमी है।

 

बिहार के लोगों की तारीफ करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि बिहार के किसान और युवा बहुत मेहनती हैं, यही कारण है कि अंग्रेजों को भगाने के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने सबसे पहले बिहार के चंपारण आए थे। कांग्रेस नेता ने राजग के नेताओं पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए सभा में आए लोगों से कहा, ”कुछ साल पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां आए थे और कहा था कि ये गन्ने का इलाका है, चीनी मिल चालू करूंगा और अगली बार आऊंगा तो यहां की चीनी चाय में मिलाकर पिऊंगा। चाय पी क्या आपके साथ?” इसके बाद राहुल गांधी ने महागठबंधन को वोट देने की अपील करते हुए कहा कि राजग के लोग झूठ बोलते हैं। पहले 2 करोड़ रोजगार देने की बात कही थी। राहुल गांधी ने आगे कहा कि अब अगर पीएम मोदी यहां आकर 2 करोड़ रोजगार की बात बोल दें तो शायद भीड़ उन्हें भगा देगी।

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तुलना रावण से करने पर उनकी खूब आलोचना हो रही है। मगर हमेशा की तरह इस बार भी सभी राजनीतिक दलों के स्टार प्रचारक भाषाई मर्यादा का पालन किए बिना अनाप-शनाप बयानबाजी करने में लगे हुए हैं।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close