Breaking NewsTop Newsक्राइमदेशपंजाबराजनीतिवायरलसोशल मीडिया

अमृतसर के चर्च में कांग्रेसी नेता ने 8 लोगों संग मिलकर की फायरिंग, चर्च के पास्टर की मौत और भाई घायल

पंजाब में शुक्रवार दोपहर को गुरुनगरी के लाहोरी गेट स्थित चर्च में सात लोगों ने घुसकर एक युवक की गोलियां मारकर हत्या कर दी। गोली लगने से मृतक का छोटा भाई भी जख्मी बताया जा रहा है। मृतक की पहचान प्रिंस (35) निवासी लाहोरी गेट के तौर पर हुई है। वहीं, मृतक की बहन बेबिका के बयान पर कांग्रेसी नेता रणदीप सिंह गिल समेत सात के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। उसके मुताबिक कोरोना महामारी के दौरान चर्च को खोलने पर प्रिंस और रणदीप सिंह में विवाद हो गया था। इस बात से रणदीप ने रंजिश पाल रखी थी। प्रिंस की मौत के बाद इलाके में तनाव पैदा हो गया है।

मृतक प्रिंस की फाइल फोटो
मृतक प्रिंस की बहन बेबिका ने बताया कि कुछ दिन बाद उसकी शादी थी। इसके लिए ही परिवार वाले चर्च में बैठ कर विचार-विमर्श कर रहे थे। वह चर्च की ऊपरी मंजिल पर थी। इसी दौरान उसने नीचे देखा कि रणदीप गिल अपने साथियों के साथ अंदर आया। रणदीप के हाथ में रिवाल्वर था। प्रिंस ने कहा कि जिस स्थान पर वह रिवाल्वर लेकर आया है, वह भगवान का घर है। रिवाल्वर दिखाकर उसे न डरा। प्रिंस के इतना कहते ही कांग्रेसी नेता गिल ने उसके भाई के सीने पर दो गोलियां दाग दीं। प्रिंस ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। इसके बाद गिल के साथियों ने वहां मौजूद लोगों को डराने के लिए इधर-उधर ताबड़तोड़ फायरिंग की और वहां से फरार हो गए। इसमें प्रिंस का छोटा भाई मनोज भी गोली लगने से जख्मी हो गया। उसका इलाज निजी अस्पताल में चल रहा है।

चर्च में हुई फायरिंग से पास्टर प्रिंस की मौत के बाद विलाप करते हुए परिजन

बताया जा रहा है कि लॉकडाउन में कुछ लोग चर्च में आकर प्रार्थना करते थे। किंतु चर्च के पास्टर प्रिंस ने चर्च में लोगों के आने पर रोक लगा रखी थी। लॉकडाउन में रणदीप का इसी बात को लेकर प्रिंस से विवाद हुआ था। मंगलवार को दोनों पक्षों में राजीनामा भी करवाया जा रहा था, लेकिन खुद को बहुत बड़ा कांग्रेसी नेता बताने वाला आरोपी किसी भी कीमत पर प्रिंस से समझौते को तैयार नहीं था। इसी के चलते रणदीप और प्रिंस के बीच शुक्रवार को भी चर्च में विवाद हुआ और ताबड़तोड़ फायरिंग में प्रिंस की मौत हो गई।

अमृतसर के चर्च में फायरिंग करके पास्टर की हत्या करने का कथित आरोपी रणदीप सिंह गिल (फाइल फोटो)

जानकारी के मुताबिक, कांग्रेसी नेता रणदीप सिंह गिल वर्तमान में बाबा खेत्रपाल जी शक्ति दल ऑल इंडिया का चेयरमैन भी है। वह अकाली-भाजपा कार्यकाल के दौरान अकाली दल में था। तत्कालीन सरकार के असरदार मंत्रियों से नजदीकियां बढ़ाकर उसने कई सुरक्षाकर्मी हासिल कर लिए थे। अकाली सरकार जाते ही वह कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गया था।

इस पूरे घटनाक्रम पर एडीसीपी जगमोहन के अनुसार रणदीप और प्रिंस के बीच कोई निजी रंजिश थी। पुलिस ने प्रिंस के परिजनों की शिकायत पर कांग्रेसी नेता रणदीप गिल, उसके भाई बलराम गिल, बॉबी, बाबू और तीन अज्ञात पर हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीमों का गठन कर दिया गया है। टीमें गिल के संभावित ठिकानों पर छापे मार रही हैं। पुलिस ने घटनास्थल से पांच खोल बरामद किए हैं।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close