Breaking NewsTop Newsउत्तर प्रदेशक्राइमनई दिल्लीराजनीतिवायरलसोशल मीडिया

उत्तर प्रदेश में गुंडाराज, पुलिस की मौजूदगी में किया मर्डर, अब हत्यारोपी के समर्थन में आए बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। महिला सुरक्षा में लापरवाही को लेकर पहले ही राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विपक्ष और मीडिया के निशाने पर बने हुए हैं। अब बलिया के रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर गांव में धीरेंद्र सिंह द्वारा पुलिस और जिला प्रशासन के आला अधिकारियों की मौजूदगी में जय प्रकाश पाल की गोली मारकर हत्या कर दी गई और मौके से फरार हो गया।

शनिवार को बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह रेवती थाना में मृतका के परिजनों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने पहुंच गए। बीजेपी विधायक के मुताबिक, धीरेंद्र प्रताप सिंह और उनके समर्थकों पर शुरुआत में दूसरे पक्ष ने हमला किया था। इससे पहले सुरेंद्र सिंह ने कहा था कि धीरेंद्र प्रताप सिंह ने आत्मरक्षा में गोली चलाई थी। सुरेंद्र सिंह ने जिन घायलों का जिला अस्पताल में मेडिकल कराया था, उनमें से दो को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। हद तो तब दो गई जब मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए विधायक कैमरे के सामने फूट फूटकर रोने लगे। जानकारी के मुताबिक, बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह के बयान से देशभर में योगी सरकार की काफी फजीहत हो रही है। इसके बाद से विपक्ष योगी सरकार पर लगातार हमलावर है।

बलिया हत्याकांड के हत्यारोपी के समर्थन में आंसू बहाते हुए बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह

योगी सरकार की बढ़ रही मुसीबतों की आग में घी का काम करते हुए अब विधायक सुरेंद्र सिंह के बेटे ने ही योगी सरकार को चेतावनी दे दी है। बेटे विद्याभूषण सिंह हजारी ने फेसबुक के जरिए कहा, ‘योगी जी, अब बर्दाश्त के बाहर हो रहा है। आपके शह पर प्रशासन अत्याचार का अंत कर रहा है। मजबूर होकर सड़क पर उतरेंगे।’

बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह हत्यारोपी का समर्थन करते हुए योगी सरकार को खुले आम धमकी देते दिख रहे हैं दुर्जनपुर की घटना को लेकर अगर एक सप्ताह के अंदर दूसरे पक्ष पर मुकदमा नहीं लिखा गया तो रेवती थाने पर एक सप्ताह बाद हजारों लोगों की संख्या में वो थाने का घेराव करेंगे।

उत्तर प्रदेश के बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह (फाइल फोटो)

बता दें कि उत्तर प्रदेश में बलिया गोलीकांड के मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह उर्फ डब्ल्यू समेत 6 वांछित आरोपियों के खिलाफ यूपी पुलिस ने 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया है। एसपी बलिया ने 15 अक्टूबर को रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर गांव में हुई घटना के संबंध में फरार आरोपियों पर ये इनाम राशि घोषित की है।

मृतक जयप्रकाश पाल के भाई तेज बिहारी पाल ने मीडिया को बताया कि कोटे की दुकान को लेकर दो प्रत्याशी लड़ रहे थे। प्रशासन चुनाव निष्पक्ष कराना चाह रहा था। इसी बीच हार देखकर धीरेंद्र प्रताप के गुट ने पथराव और फायरिंग शुरू कर दिया। आरोपी धीरेंद्र आर्मी से रिटायर्ड है और बीजेपी विधायक के साथ रहता है। उन्होंने ही धीरेंद्र को मनबढ़ कर दिया है। मौके पर दस सिपाही और दो महिला सिपाही थीं। पुलिस उन्हेंं बचा रही थी, हमें पीट रही थी। गोली लगने के बाद जब मेरा भाई गिर गया तो पुलिस ने उसे घेर पकड़ा, लेकिन आगे ले जाकर फरार कर दिया।

बलिया के गोलीकांड का घटना स्थल (फाइल फोटो)

इस पूरे घटनाक्रम की बात की जाए तो मामला बलिया के रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर गांव का है। यहां 15 अक्टूबर को कोटे की दुकान को लेकर पंचायत बुलाई गई थी। इस दौरान हत्यारोपी धीरेंद्र सिंह द्वारा पुलिस और जिला प्रशासन के आला अधिकारियों की मौजूदगी में जय प्रकाश पाल की गोली मारकर हत्या कर दी गई और मौके से फरार हो गया था। बताया जा रहा है कि इस दौरान करीब 25 राउंड गोलियां चलीं थीं। मौके पर मौजूद यूपी पुलिस और उनके अधिकारी मुंह ताकते रह गए। हालांकि इस लापरवाही की वजह से 2 अधिकारियों समेत कई पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close