Breaking NewsBusinessFoodsTop Newsदेशनई दिल्लीमनोरंजनवायरलव्यापारसिनेमासोशल मीडिया

सोशल मीडिया की ताकत ने 24 घंटे में बदली दिल्ली के #BabaKaDhaba की कहानी, लोगों की उमड़ी भारी भीड़

एक सिक्के के दो पहलू की तरह सोशल मीडिया के भी दो पक्ष हैं, सकारात्मक और नकारात्मक। अमूमन हमें समाज में नकारात्मक पहलू अधिक देखने को मिलते हैं जिनमें बहुत बार अपराध की मौजूदगी रहती है। दो दिनों से सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो के सकारात्मक पक्ष ने दिल्ली के एक बुजुर्ग दुकानदार की सहायता की है जिससे उसके छलक रहे बेरोजगारी के दर्द से उत्पन्न आंसू अब दुकान पर बढ़ रही लोगों की भीड़ देख खुशी के आंसुओं में बदल गए हैं।

सोशल मीडिया पर बुधवार को ट्विटर पर एक बुजुर्ग कपल का वीडियो वायरल हुआ था,
वीडियो को ट्विटर यूजर @VasundharaTankh ने 7 अक्टूबर की शाम शेयर किया। उन्होंने कैप्शन में लिखा, ‘इस वीडियो ने मेरा दिल तोड़ दिया है। दिल्लीवालों प्लीज, जब भी मौका मिले तो जरूर मालवीय नगर के इस ‘बाबा का ढाबा’ पर जाएं।’ इस वीडियो से मालूम हो रहा है कि वे दिल्ली के मालवीय नगर में, हनुमान मंदिर के सामने एक छोटा-सा ढाबा चलाते हैं। लेकिन कोरोनाकाल में लोगों की आवाजाही कम है तो काम इतना मंदा चल रहा है कि बुजुर्ग एक ग्राहक के सामने रोने लगे।

मालवीय नगर,नई दिल्ली में 80 वर्षीय बुजुर्ग दुकानदार अपने ‘बाबा का ढाबा’ पर ग्राहकों को भोजन वितरित करते हुए

उस ग्राहक ने बुजुर्गों का दर्द कम करने की अपील करते हुए एक वीडियो रिकॉर्ड किया और सोशल मीडिया पर डाल दिया। देखते ही देखते सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेजी से वायरल हो गया और उनके आंसू देखकर बहुत से लोगों का दिल पसीज गया। अब देशभर से लोग इनकी मदद के लिए आगे आ रहे हैं। इनमें कई बड़े नाम भी शामिल हैं। और हां, सबसे खूबसूरत बात ये कि बहुत से लोग तो मालवीय नगर के इस ‘बाबा का ढाबा’ पर पहुंच भी रहे हैं, जिसके कारण बढ़ते ग्राहकों की भीड़ देख इस कपल के चेहरे पर मुस्कान आ गई है।

देश की राजधानी नई दिल्ली के मालवीय नगर में ‘बाबा का ढाबा’ चलाने वाले बुजुर्ग का नाम कांता प्रसाद है और पत्नी का नाम बादामी देवी है। ये दोनों कई सालों से मालवीय नगर में अपनी छोटी सी भोजन खिलाने की दुकान लगाते हैं। दोनों की उम्र 80 वर्ष से ज्यादा है। कांता प्रसाद बताते हैं कि उनके दो बेटे और एक बेटी है। लेकिन तीनों में से कोई उनकी मदद नहीं करता है। वो सारा काम खुद ही करते हैं और ढाबा भी अकेले ही चलाते हैं। कांता प्रसाद पत्नी की मदद से सारा काम करते हैं। वो सुबह 6 बजे आते हैं और 9 बजे तक पूरा खाना तैयार कर देते हैं। रात तक वो दुकान पर ही रहते हैं। लॉकडाउन के पहले लोग यहां खाना खाने आया करते थे। लेकिन लॉकडाउन के बाद उनकी दुकान पर कोई नहीं आता है। इतना कहकर वो रोने लगते हैं।

आम जनता के अलावा रणदीप हुड्डा, रवीना टंडन, स्वरा भास्कर, दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल, क्रिकेटर अश्विन सिंह, सुनील शेट्टी जैसे विख्यात लोग भी बाबा के वीडियो को देखकर भावुक हो गए और इसे रीट्वीट करते हुए लोगों से ‘बाबा का ढाबा’ पर जाने की अपील करने लगे।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close