Breaking NewsTop Newsदेशवायरलसमय विशेषसोशल मीडिया

कचरा बीनते हुए जमा किए 10 लाख रुपए, अब खुद के खरीदे हुए प्लॉट में लगवाई अपनी आदमकद मूर्ति

‘सपने वो नहीं होते जो आप सोने के बाद देखते हैं, सपने वो होते हैं जो आपको सोने नहीं देते’ यह कहना था भारत के पूर्व राष्ट्रपति और युवाओं के आदर्श वैज्ञानिक डॉ० ए०पी०जे०अब्दुल कलाम का। तमिलनाडु में कूड़ा उठाने वाले ए० नल्लाथंबी नामक शख्स ने बचपन में एक सपना देखा था कि उसकी एक मूर्ति लगी हुई हो। जिस पर उसका नाम लिखा हो। अपने इसी सपने को साकार करने के लिए ए० नल्लाथंबी दिन-रात मेहनत करते हुए थोड़ी-थोड़ी मात्रा में रूपए जमा करता रहा और अब उसने अपने बचपन के सपने को साकार कर लिया है।

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

तमिलनाडु में सेलम जिले के अत्थानुरपट्टी गांव के रहने वाले 60 साल के ए. नल्लाथंबी लोगों द्वारा उपयोग कर फेंकी गई बोतलें इकट्ठा करते हैं और उन्हें बेचकर अपना जीवन-यापन करते हैं। उन्होंने बताया कि जब वह युवा थे तो खुद का बड़ा नाम बनाना चाहते थे। इसलिए उन्होंने अपनी मूर्ति लगवाई है। ए.नल्लाथंबी पहले मकान बनाने का काम करते थे। लेकिन कई साल पहले उन्होंने यह काम छोड़ दिया। अब वह बोतल बीनने वाले धंधे से 250 से 300 रुपये प्रतिदिन कमा लेते हैं। अपनी मूर्ति लगवाने के लिए उन्होंने अपने पूरे जीवन की कमाई लगा दी है। उन्होंने 1200 वर्गफीट के दो प्लॉट खरीदे और एक स्थानीय मूर्तिकार से संपर्क कर एक लाख रुपये में अपनी आदमकद मूर्ति बनवाई। उनकी मूर्ति के ऊपर छतरी भी बनी हुई है। पिछले रविवार को मूर्ति को उनके द्वारा खरीदे गए एक प्लॉट में स्थापित किया गया है, जल्द ही उसका औपचारिक विमोचन भी होगा।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close