Breaking NewsTop Newsक्राइमछोटा पर्दाबिहारमनोरंजनमहाराष्ट्रराजनीतिवायरलसिनेमासोशल मीडियाहिमाचल प्रदेश

अभिनेत्री कंगना राणावत ने उर्मिला मातोंडकर को बताया सॉफ्ट पॉर्न स्टार, कहा टिकट पाना मेरे लिए मुश्किल नहीं

मायानगरी मुंबई में अभिनेत्री कंगना राणावत और शिवसेना पार्टी के नेताओं के बीच बयानबाजी का मामला देश की संसद भवन से होता हुआ एक बार फिर बॉलीवुड में एंट्री ले चुका है। दो-तीन दिन तक लगातार कंगना राणावत, सपा सांसद जया बच्चन और बीजेपी सांसद रवि किशन के बीच बॉलीवुड में गुटबाजी, ड्रग माफिया, नेपोटिजम को लेकर हुई बहसबाजी के बाद अब कंगना राणावत ने बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर को सॉफ्ट पॉर्न स्टार बोल दिया है।

बता दें कि उर्मिला मातोंडकर ने कंगना राणावत पर निशाना साधते हुए कहा था कि कंगना बेवजह विक्टिम और महिला कार्ड खेल रही है। उन्हें अगर ड्रग्स को लेकर लड़ाई करनी है तो उन्हें अपने राज्य हिमाचल प्रदेश से शुरुआत करनी चाहिए। इस टिप्पणी के बाद कंगना राणावत ने उर्मिला मातोंडकर पर पलटवार करते हुए कहा कि वह मेरे संघर्षों का मजाक बना रही है। कंगना ने उर्मिला पर पर्सनल वार करते हुए उन्हें ‘सॉफ्ट पॉर्न स्टार’ बुलाया है। उन्होंने यह भी कहा कि उर्मिला अपनी एक्टिंग की वजह से नहीं जानी जाती हैं।

 

Times Now से बात करते हुए कंगना राणावत ने कहा, ‘उर्मिला अपनी एक्टिंग के लिए नहीं जानी जाती, वो किस चीज के लिए जानी जाती हैं? सॉफ्ट पॉर्न करने के लिए। तो अगर उन्हें टिकट मिल सकती है तो मुझे भी टिकट मिल सकती है। मेरे लिए टिकट पाना मुश्किल बात नहीं है। मुझे इसके लिए अपनी जिंदगी से खेलने और प्रॉपर्टी बर्बाद करने की जरूरत नहीं है।’
कंगना राणावत के इस बयान पर उर्मिला ने कंगना को जवाब देते हुए कहा, ‘आज जो कुछ भी आपको मिला है – नाम, प्रसिद्धि और पैसा इन सबके लिए मुंबई और फिल्म उद्योग को धन्यवाद दीजिए। ऐसा क्यों है कि आपने पिछले कुछ सालों में इन चीजों के बारे में नहीं बोला है और पिछले कुछ महीनों में ही यह सब बोल रही हैं? समय अजीब लगता है। लगता है सबकुछ थोड़ा डांवाडोल हो रहा है।’ उर्मिला ने एक इंटरव्यू के दौरान कंगना पर निशाना साधते हुए कहा था, ‘कोई सभ्य महिला ऐसी भाषा का इस्तेमाल करती है कि ‘क्या उखाड़ लोगे’। हालांकि इस बात में कोई संदेह नहीं है कि मुंबई और बॉलीवुड सभी देशवासियों का है। इस शहर की बेटी होने के नाते, इसका अपमान करने वाली किसी भी टिप्पणी को मैं बर्दाश्त नहीं करूंगी। कोई भी नहीं चाहेगा कि उनके बच्चे कंगना से प्रेरणा लें जो इस तरह की भाषा का इस्तेमाल करती हैं। क्या ये सब भारतीय संस्कृति का हिस्सा है।’

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close