Breaking NewsTop Newsक्राइमवायरलसोशल मीडियाहरियाणा

786 वाला टैटू देखकर नहीं, नाबालिग का यौन शोषण कर भागने के कारण हुई थी अखलाक की पिटाई, एसीपी ने किया खुलासा

हरियाणा के पानीपत जिले में 28 साल के एक मुस्लिम युवक की डंडों से पिटाई का मामला सामने आया है। पीड़ित मुस्लिम युवक ने आरोप लगाते हुए कहा कि आरा मशीन से उसका हाथ काट दिया गया है। बताया जा रहा है कि अखलाक सलमानी नामक युवक नौकरी की तलाश में पानीपत आया था। अखलाक सलमानी के भाई इकराम ने बताया कि 23 अगस्त को उनके भाई अपने घर से पानीपत के लिए निकले थे। अखलाख, नानौता के रहने वाले हैं। नानौता, सहारनपुर से 23 किलोमीटर दूर है। उनका कहना है कि उनके हाथ पर ‘786’ का टैटू गुदा हुआ था और यही टैटू देखकर कुछ लोग भड़क गए और उनकी पिटाई कर दी।

इकराम के आरोपों से अलग पानीपत के एसीपी सतीश कुमार वत्स ने ‘The Indian Express’ से बातचीत करते हुए बताया कि शुरुआती जांच में यह पता चला है कि अखलाख ने एक बच्चे का यौन शोषण किया और भागने के दौरान उसे चोट लगी है। वहीं कुछ अन्य मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक स्थानीय थाने में युवक के खिलाफ 7 साल के बच्चे को अगवा कर उसका यौन शोषण करने के मामले में केस दर्ज कराया गया है। परिजनों का दावा है कि उन्होंने आरोपी को पकड़ लिया हालांकि बाद में वो भागने में कामयाब हो गया।

इन‌ आरोपों से अपने भाई का बचाव करते हुए अखलाख के भाई इकराम ने पुलिस पर ही आरोप लगाया है कि पुलिस इस केस को बदलना चाहती है। उनका दावा है कि परिवार की आर्थिक स्थिति खऱाब होने की वजह से उनके भाई पानीपत में काम की तलाश में गए थे। पानीपत पहुंचने के बाद वो किशनपुरा इलाके में कुछ देर तक आराम करने के लिए बैठ गए। यहां दो लोगों ने उनसे उनका नाम पूछा और जवाब- अखलाख, मिलने पर उन्होंने उनकी पिटाई शुरू कर दी। इसके बाद अखलाख घायल अवस्था में सड़क की तरफ भागे। घायल अखलाख ने एक घर के दरवाजे पर दस्तक दी और मदद मांगी। लेकिन आरोप है कि यहां उन्हें घर के अंदर खींच लिया गया और लकड़ी के डंडे से उनकी पिटाई की गई। इकराम का दावा है कि अखलाख ने उन्हें बताया कि घर में चार पुरुष और दो महिलाएं थीं। जब उन स्थानीय लोगों ने उनके हाथ पर 786 का टैटू गुदा देखा तो उन्होंने कहा कि हम इसे यहां नहीं देख सकते। इसके बाद लकड़ी काटने वाले आरा से उनके हाथ को काटने की कोशिश की गई।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close