Breaking NewsGamesTop Newsखेलवायरलसोशल मीडिया

पूर्व फुटबॉल खिलाड़ी बाइचुंग भूटिया के नाम पर सिक्किम में रखा जाएगा एक स्टेडियम का नाम, पहले भारतीय फुटबॉलर होंगे

कोरोना काल में बेशक खेलों के मैदानों में शांति बनी हुई हो किन्तु खेलों की अन्य गतिविधियां अब धीरे-धीरे शुरू हो रही हैं। सिक्किम में भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान बाइचुंग भूटिया के नाम पर एक स्टेडियम का नाम रखा जा रहा है। बता दें कि भारत में अब तक का यह पहला स्टेडियम होगा, जिसका नाम किसी फुटबॉलर के नाम पर रखा गया है‌। यह स्टेडियम बाइचुंग भूटिया के जन्मस्थान दक्षिणी सिक्किम के तिन्कीतम जिले से 25 किलोमीटर दूर है। वर्ष 2010 में ही इस स्टेडियम का निर्माण कार्य शुरू हो गया था, लेकिन वित्तीय बाधाओं के कारण इसे कुछ समय के लिए रोक दिया गया था। लेकिन प्रेम सिंह तामंग के सिक्किम के मुख्यमंत्री बनने और कार्यभार संभालने के बाद फिर से इसका निर्माण कार्य शुरू किया गया था। इस स्टेडियम में 15000 दर्शकों के बैठने की क्षमता है। इसे 14 महीने में पूरा किए जाने की संभावना है। मुख्यमंत्री खुद इसके निर्माण कार्य की निगरानी कर रहे हैं।

भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान बाइचुंग भूटिया के नाम पर स्टेडियम का नाम रखे जाने को लेकर सिक्किम फुटबाल संघ के अध्यक्ष मेन्ला एथेंपा ने कहा, ‘भारतीय फुटबॉलरों में से एक फुटबॉल खिलाड़ी बाइचुंग भूटिया को हमारी तरह से यह एक उपहार है। खेल से संन्यास लेने के बाद भी भूटिया कई लोगों के लिए आदर्श रहे हैं और न केवल सिक्किम के बल्कि भारत के युवा फुटबॉलरों को प्रेरित करते रहें हैं। उन्होंने भारतीय फुटबॉल के लिए जो कुछ किया है, वह अमूल्य है। लेकिन उनके नाम पर एक स्टेडियम शानदार फुटबॉलर के लिए एक छोटा सा घर हो सकता है।’

भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के साथ भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान बाइचुंग भूटिया (फाइल फोटो)

इस चर्चा पर भूटिया ने कहा, ‘मैं बहुत सम्मानित और उत्साहित हूं। यदि आप इसे बड़े पैमाने पर देखें तो मैं अधिक खुश हूं, क्योंकि नवोदित फुटबॉल खिलाड़ियों को फुटबॉल खेलने के लिए एक और शीर्ष श्रेणी की सुविधा और बुनियादी ढांचा मिलेगा। इस स्टेडियम ने मेरे सहित कई फुटबॉल खिलाड़ियों को देश को दिया है। मेरे पास वहां खेलने की कई यादें हैं।’

बता दें कि साल 1995 में भारतीय सीनियर फुटबॉल टीम में डेब्यू करने वाले बाइचुंग भूटिया ने 2011 में फुटबॉल से संन्यास ले लिया था। कई अंतर्राष्ट्रीय मैचों में खेलते हुए भारतीय फुटबॉल टीम का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। भूटिया भारत के लिए 100 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले पहले फुटबॉलर हैं। उन्हें साल 1998 में अर्जुन अवॉर्ड और 2008 में पद्मश्री पुरस्कार मिल चुका है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close