Breaking NewsTop Newsउत्तर प्रदेशदेशनई दिल्लीराजनीतिवायरलसोशल मीडिया

पूर्व वित्त सचिव राजीव कुमार नए चुनाव आयुक्त नियुक्त किए गए, लोकसभा चुनाव-2024 तक रहेगा कार्यकाल

विधि मंत्रालय ने अधिसूचना जारी करते हुए जानकारी दी कि पूर्व वित्त सचिव राजीव कुमार को नया निर्वाचन आयुक्त नियुक्‍त किया है। वह अशोक लवासा की जगह लेंगे जो कुछ दिन पहले ही इस पद से इस्तीफा दे चुके हैं। राजीव कुमार 1984 बैच के झारखंड कैडर के सेवानिवृत्त आइएएस अधिकारी हैं। राजीव कुमार 31 अगस्त 2020 को अशोक लवासा की जगह तत्काल प्रभाव से पद संभालेंगे। बता दें कि सुनील अरोड़ा भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त हैं। अशोक लवासा के अलावा दूसरे चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा हैं। जानकारी के मुताबिक, राजीव कुमार का चुनाव आयोग में पांच साल का कार्यकाल होगा अर्थात् वह 2025 तक इस पद पर बने रहेंगे। अतः राजीव कुमार अगले लोकसभा चुनाव 2024 का काम भी देखेंगे।

कानून एवं न्याय मंत्रालय की अधिसूचना के मुताबिक, संविधान के अनुच्छेद 324 के खंड (2) के अनुसार राष्ट्रपति ने राजीव कुमार को चुनाव आयुक्त के पद पर नियुक्त किया है। राजीव कुमार को पिछले साल जुलाई में वित्त सचिव नियुक्त किया गया था।

मूलतः उत्तर प्रदेश के रहने वाले राजीव कुमार ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को मजबूत करने की केंद्र की योजना को लागू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। राजीव कुमार के पास सार्वजनिक नीति और प्रशासनिक क्षेत्र का 30 साल से ज्यादा का अनुभव है। उन्होंने बीएससी और एलएलबी के साथ पब्लिक पॉलिसी एंड सस्टेनेबिलिटी में मास्टर्स किया है। उन्होंने प्रधानमंत्री जनधन और मुद्रा ऋण जैसी योजनाओं के क्रियान्वयन पर भी काफी काम किया है। वे एक फरवरी, 1993 से एक जून, 1996 तक रांची के उपायुक्त रहे। इसके अलावा वे कार्मिक विभाग में विशेष सचिव, प्राथमिक शिक्षा निदेशक और उद्योग निदेशक समेत झारखंड भवन, नई दिल्ली में अतिरिक्त स्थानीय आयुक्त और स्थानीय आयुक्त पद पर रहे। केंद्रीय प्रतिनियुक्ति के दौरान वर्ष 2012 से उन्होंने वित्त मंत्रालय में संयुक्त सचिव, अतिरिक्त सचिव और विशेष सचिव की जिम्मेदारी निभाई। राजीव कुमार एक सितंबर, 2017 से 29 फरवरी, 2020 तक वे केंद्रीय वित्त सचिव के पद पर रहे। 29 अप्रैल, 2020 को उन्हें पब्लिक इंटरप्राइजेज सेलेक्शन बोर्ड का अध्यक्ष बनाया गया।

गौरतलब है कि अशोक लवासा ने मंगलवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। अशोक लवासा अब एशियाई विकास बैंक के उपाध्यक्ष के रूप में जिम्मेदारी संभालेंगे। लवासा ने राष्ट्रपति भवन को भेजे अपने इस्तीफे में 31 अगस्त को खुद को कार्यमुक्त करने का अनुरोध किया था। अशोक लवासा ऐसे दूसरे चुनाव आयुक्त है जिन्होंने अपना कार्यकाल पूरा होने से पहले ही इस्तीफा दे दिया है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close