Breaking NewsTop NewsTravelजम्मू-कश्मीरदेशनई दिल्लीवायरलसोशल मीडिया

माता वैष्णो देवी की यात्रा आज से शुरू, भक्तों को करवाना‌ होगा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

वैश्विक महामारी कोरोनावायरस के चलते देशभर के अनेक शैक्षणिक संस्थान, मंदिर, बहुत से दफ्तर, औद्योगिक क्षेत्र बंद थे। चूंकि अब केंद्र सरकार अनलॉक प्रकिया के तहत देश के भिन्न-भिन्न क्षेत्रों को विशेष शर्तों के साथ खोलने की छूट प्रदान कर रही है जिसके तहत माता वैष्णो देवी का दरबार आज भक्तों के लिए खोल दिया गया है। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने रविवार 16 अगस्त से मां वैष्णो देवी की यात्रा को शुरू करने की अनुमति दे दी थी। गौरतलब है कि देश में कोरोना संक्रमण शुरू होने के बाद मार्च में ही माता वैष्णो देवी की यात्रा बंद कर दी गई थी।

श्राइन बोर्ड के सीईओ रमेश कुमार ने सुबह तैयारियों का जायजा लिया।

श्राइन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रमेश कुमार के मुताबिक, यात्रा में शामिल होने के लिए जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने कुछ दिशानिर्देश जारी किए हैं जिनके तहत भक्तों को सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनने जैसी बातों का विशेष ध्यान रखना होगा। सभी प्रवेश द्वार पर यात्रियों की थर्मल जांच भी की जाएगी। यात्रा में आने वाले भक्तोंको फोन में आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना अनिवार्य होगा। पहले सप्ताह 2,000 श्रद्धालु प्रतिदिन दर्शन को जा सकेंगे, जिनमें 1,900 भारतीय और 100 विदेशी यात्री हो सकते हैं। साथ ही, बताया गया है कि 60 साल से अधिक उम्र के व्यक्ति, सांस संबंधी बीमारियों से जूझ रहे व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं तथा 10 साल से कम उम्र के बच्चों को धार्मिक स्थलों के अंदर प्रवेश नहीं दिया जाएगा। जानकारी के मुताबिक, हालात सामान्य होने के बाद इस परामर्श की समीक्षा की जाएगी। माता वैष्णोदेवी के दर्शन करने के इच्छुक भक्तजनों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद ही यात्रा की अनुमति दी जाएगी।

यहां भक्तों की टेंपरेचर जांच के लिए ऑटोमेटिक मशीन लगाई गई है।

माता वैष्णोदेवी के भवन में एक बार में 600 से अधिक लोग जमा नहीं हो सकेंगे। जम्मू-कश्मीर प्रशासन के ये दिशानिर्देश 30 सितंबर तक लागू रहेंगे। इसके अलावा श्रद्धालु मंदिर परिसर में किसी प्रकार का चढ़ावा नहीं चढ़ा सकेंगे. देवी-देवताओं की प्रतिमाओं को छूना भी वर्जित होगा। यात्रा में शामिल होने वाले सभी भक्तों को 14 किमी की चढ़ाई मास्क या फेस कवर लगाकर ही करनी होगी, किसी भी भक्त को फेस कवर या मास्क उतारने की अनुमति नहीं होगी। बता दें कि इस बार यात्रा के लिए पिट्ठू और खच्चर की व्यवस्था नहीं है।

यात्रा के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन‌ करते हुए भक्तजन

बता दें कि कुछ दिनों पहले ही पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता मनोज सिन्हा को केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर का उपराज्यपाल नियुक्त किया गया है। इसके बाद उन्होंने केंद्र शासित प्रदेश के सभी तीर्थस्थलों को खोलने का फैसला किया है। जिसके बाद 16 अगस्त की तारीख तय की गई है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close