Breaking NewsTop Newsखेलनई दिल्लीप्रदेशसोशल मीडिया
Trending

महिला पहलवान को मदद का ऐलान कर भूल गई केजरीवाल सरकार, परिवार के सामने छाया आर्थिक संकट 

यूँ तो दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल खुद को आम आदमी कहते हैं और दावा करते कि  वह हर आम आदमी का दर्द समझते हैं ।लेकिन उनका दावा तब खोखला नजर आता है जब आप युवा महिला पहलवान सिमरन अहलावत को सुनेंगे ।

सिमरन अहलावत ने साल 2018 में देश के लिये पदक जिता था उस समय दिल्ली सरकार ने उनके लिये  नगद  राशि देने की घोषणा की थी जो कि  अभी तक नहीं मिली है।
इस 17 वर्षीय पहलवान ने एक ट्वीट कर  कहा कि केजरीवाल सरकार उनसे किए गए वादे को भूल गई है। सिमरन ने 2018 में यूथ ओलंपिक में रजत पदक जीता था। इस पर दिल्ली सरकार ने नगद इनाम देने का ऐलान किया था। सिमरन का कहना है कि दो साल बाद भी उसे इनाम अब तक नहीं मिला। उसने अब सोशल मीडिया के जरिये दिल्ली सरकार से इनामी राशि देने की अपील की है।

अपने ट्विटर अकाउंट पर वीडियो पोस्ट कर सिमरन ने कहा है, “2018 में यूथ ओलंपिक में रजत पदक जीतने पर दिल्ली सरकार में मंत्री सत्येंद्र जैन ने नगद पुरस्कार देने का ऐलान किया था, लेकिन दो साल होने के बाद भी कोई मदद नहीं मिली है। इसके बाद मैंने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के सामने भी इस मामले को रखने की कोशिश की, लेकिन मेरे ईमेल्स का अभी तक कोई जवाब नहीं दिया गया है।”

युवा महिला पहलवान सिमरन का कहना है कि उसके परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। इसका असर उनकी प्रशिक्षण पर पड़ रहा है। उन्होंने दिल्ली सरकार से कहा कि खेल कोटे से उसकी मदद की जाए, जिससे वह अभ्यास शुरू कर सकें। कोरोना वायरस महामारी की वजह से भी सिमरन का परिवार आर्थिक संकट झेल रहा है।

वहीं, सिमरन के पिता राजेश कुमार ने कहा कि हमें पैसों की कमी है। कोरोना और लॉकडाउन के चलते कोई प्रतियोगिता भी नहीं हो रही है। दिल्ली सरकार से मदद नहीं मिल रही है। ऐसे में दोस्तों-रिश्तेदारों की मदद से काम चला रहे हैं। हमारे पास कोई प्रोफेशनल मैट नहीं है। शादी और जागरण में काम आने वाले गद्दों से ही काम चला रहे हैं जिस पर सिमरन अभ्यास कर लेती है। हमारा खेल मंत्रालय से अभी तक कोई संपर्क नहीं हुआ है।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close