Breaking NewsTop Newsदेशराजस्थानवायरल

राजस्थान में नाबालिग के साथ शर्मनाक करतूत! केस वापस नहीं लेने पर पेड़ से लटका मिला पिता का शव

यह सनसनीखेज मामला अलवर जिले के रामगढ़ कस्बे के बालोत नगर मोहल्ले का है । जिसमें एक नाबालिग लड़की से छेड़खानी और रेप के मामले में पुलिस केस वापस लेने और राजीनामे के लिए अनीश, तौफिक और अंजुम नामक तीन आरोपी तथा उनके परिवार वालों ने इतना दबाव बनाया कि पीड़िता के पिता का शव घर से महज 500 मीटर की दूरी पर एक पेड़ से लटका मिला है । पुलिस इसे आत्महत्या बता रही है वहीं पीड़ित परिजनों ने आरोपी पक्ष के लोगों पर हत्या का आरोप लगाते हुए नामजद मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने भी अब हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
जानकारी के अनुसार, रेप के बाद मानसिक तनाव और परिजनों पर समझौते को लेकर लगातार बनाए जा रहे सामाजिक दबाव से तंग आकर नाबालिग रेप पीड़िता ने 18 जून को कुएं में कूद कर आत्महत्या करने की कोशिश की थी। लेकिन ग्रामीणों ने उसे बचा लिया था । पीड़िता ने रामगढ़ थाने में अनीश, तौफिक और अंजुम नामक युवकों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी। लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया । इसके बाद जब मामला मीडिया में आया तब पुलिस ने गत 20 जून की रात को मामला दर्ज कर मुख्य आरोपी अनीश खान को पोक्सो एक्ट में गिरफ्तार किया । परंतु पीड़ित परिवार का आरोप है कि मुख्य आरोपी का साथ देने वाले अन्य दो आरोपी तौफिक और अंजुम को पुलिस बचाने में जुटी हुई है तथा दबंगों के जरिए पीड़ित परिवार पर समझौते के लिए लगातार दबाव बनाया जा रहा है ।
पीड़िता की बड़ी बहन की आगामी 29 जून को शादी तय है। आरोपी उसकी बड़ी बहन की शादी में रुकावट डालने की धमकियां दे रहे थे । इससे पीड़िता का पिता काफी तनाव में था और वह शांतिपूर्ण तरीके शादी कराने के लिए प्रयासरत था। इसी बीच बुधवार को पीड़िता के पिता का शव उसके घर से मात्र 500 मीटर की दूरी पर पेड़ से लटका मिला।
इस घटनाक्रम के बारे में जानकारी मिलते ही शुक्रवार को विश्व हिंदू परिषद के प्रांतीय व जिला पदाधिकारी पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे। सभी घटनाओं पर आक्रोश जताते हुए उन्होंने राज्य सरकार से मृतक के परिवार को आर्थिक मदद व सरकारी नौकरी दिलाने , सभी आरोपियों को सजा दिलाने तथा दोषी पुलिसकर्मियों के निलंबन की मांग की। विहिप पदाधिकारियों ने दो दिन बाद होने वाली मृतक की बड़ी बेटी के विवाह में कन्यादान से लेकर पूरे विवाह कार्यक्रम में मदद का आश्वासन दिया। साथ ही, विहिप की ओर से परिवार को कानूनी मदद देने का आश्वासन भी दिया गया।
प्रांतीय अध्यक्ष प्यारेलाल, प्रदेश संगठन मंत्री राजाराम ने कहा कि पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई के लिए उच्चाधिकारियों से मिलेंगे । उसके बाद आगे की रणनीति तैयार की जाएगी । विहिप के प्रांत क्षेत्रीय मंत्री सुरेश उपाध्याय ने कहा कि क्षेत्र में षडयंत्रपूर्वक इस तरह की घटनाओं को समुदाय विशेष के लोगों द्वारा बार-बार अंजाम दिया जा रहा है। अतः हमें परिवार में बच्चों का विशेष ख्याल रखना चाहिए। दूसरे समुदाय विशेष के लोगों को भी अपने बच्चों को गलत काम करने से रोकना होगा ताकि समाज में शांति व्यवस्था बनी रहे ।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close